पत्रिका.काम : 12.05.2019

जगदलपुर- बस्तर में पुलिस पर ग्रामीणों से मारपीट का आरोप कोई नई बात नहीं है । लेकिन बस्तर में पहली बार ऐसा होगा कि पुलिस मारपीट के खिलाफ ग्रामीण ग्रामसभा बुलाएंगे और यहां प्रस्ताव पारित करेंगे । यह गांव हैं गोंडेरास । गांव के लोगों का कहना है कि इस सभा में बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक रहेंगे और यह सभी इसमें शामिल होंगे ।

वहीं दूसरी तरफ इस प्रस्ताव के पास होने के बाद सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोढ़ी इस लिखित दस्तावेज को लेकर अंतराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन के पाए जाएगी । ग्रामीणों का कहना है कि यह पूरी घटना बेहद क्रूर थी । इसलिए वे ग्राम सभा बुलाने जा रहे हैं । आने वाले पांच दिनों अंदर ग्राम सभा बुलाया जाएगा । इसमें शामिल होने और उनकी आवाज देश – विदेश तक पहुंचे इसके लिए सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोढ़ी को बुलाया गया है । इस ग्राम सभा में बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक मौजूद रहेंगे । सभा में घटना के सबंध में प्रस्ताव लाया जाएगा । गांव के लोग विस्तार से अपने पर बीती बात बताएंगे और इसके बाद प्रस्ताव पारित किया जाएगा ।

सभा की सारी बातें दस्तावेज के रूप में तैयार की जाएंगी , ताकि इस बात को मानवाधिकार संगठन तक ले जाया जा सके । वहीं सोनी सोढ़ी का कहना है कि बस्तर में पांचवी अनुसूची लगी हुई है । इसलिए ग्राम सभा द्वारा लि निर्णयों का महत्व काफी बढ़ जाता है ।

अब पीड़ित ग्रामीणों की आवाज ग्राम सभा के माध्यम से ही आगे बढ़ेगी । ग्रामीणों ने उन्हें बुलाया है । अब इस ग्रामसभा में प्रस्ताव पारित करने के बाद इसे अंतराष्ट्रीय मानव अधिकार संगठनों के पास ले जाया जाएगा ताकि इनकी शिकायत पर कार्रवाई हो सके ।

माओवादियों का आरोप निहत्था था पुनेम गाँव वाले के सामने मारी गोली

जगदलपुर @ पत्रिका . माओवादियों की दरभा डिविजन की पार्टी के सचिव साईंनाथ ने एक बार फिर प्रेसनोट जारी किया है । जिसमें 7 तारीख को गोंडेरास मुठभेड़ को फर्जी करार देते हुए उन्होंने पुलिस पर आरोप लगाया है कि कोई मुठभेड़ नहीं हुई थी । पुनेम सीको उस दिन निहत्थी अकेली नदी की ओर जा रही थी इसी दौरान उसे पकड़ लिया और गांव वालों के सामने उसे पकड़कर गोली मार दी । वहीं इसके बाद ग्रामीणों पर माओवादियों का साथ देने का आरोप लगाते हुए पूरे गांव वालों को लाठियों से पीटा । जिसमें 37 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए । साथ ही उन्होंने ग्रामीणों से सामान और पैसे लूटने का भी आरोप लगाया है । इसके बाद इसे मुठभेड़ करार दे दिया । वहीं उन्होंने गांव के 12 लोगों को भी पुलिस अपने साथ ले जाने की बात कही है ।

मलांगीर एरिया कमेटी ने जारी किया पर्चा मुया मंडावी को बताया पूर्व माओवादी

जगदलपुर @ पत्रिका , दंतेवाड़ा जिले के किरंदुल थाना से लगे पेरपा गांव में 2 मई को हुई पुलिस माओवादी मुठभेड़ को माओवादियों ने फर्जी करार दिया है । माओवादियों की मलांगीर एरिया कमेटी के सचिव सोमडु ने प्रेस नोट जारी कर फर्जी बताते हुए न्यायिक जांच की मांग की है । मुया मंडावी को निहत्थे पकड़ कर दौड़ा दौड़ा कर पीछे से गोली मार दी गई । पर्चे में उन्होंने लिखा की वो माओवादी संगठन छोड़कर अपने परिवार के साथ खेती किसानी काम करता था और अपने परिवार का जीवन यापन करता था ।