छत्तीसगढ़ तर्कशील परिषद के संयोजक डॉक्टर आर.के. सुखदेवे जी बता रहे हैं कि किस प्रकार हैं अंधविश्वास के खिलाफ लड़ने की प्रेरणा मिली। जीवन के पहले पोस्टमार्टम में उन्हें पता चला कि उस महिला को बेहद कष्टदायक मौत दी गई। डायन कहकर उसकी योनि में मिर्ची भरे गए थे। उसके पेट में बच्चा भी था। उन्होंने इसके खिलाफ लड़ाई लड़ी और विज्ञान के प्रचार प्रसार में लगे रहे। देखिए उनका यह एक्सक्लूसिव इंटरव्यू एपिसोड पर्सनैलिटी ऑफ द वीक कि इस खास कड़ी में।