रिपोर्ट पत्रिका

रायगड . टीआरएन कंपनी की एक और मनमानी उजागर हुई है । मनमानी इस तरह की है कि टीआरएन ने राजस्व की जमीन पर हास्ट का निर्माण किया है , लेकिन इस हास्टल में आवागमन करने के लिए वन विभाग की जमीन पर रास्ता बनाया गया है एक बार इस रास्त को बंद करवाया गया था , लेकिन अब फिर से यह रास्ता शुरू हो गया है । इससे कंपनी की मनमानी तो उजागर हो रही है । वहीं वन विभाग के द्वारा किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं करने पर विभाग की कार्यशैली पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं ।


टीआरएन कंपनी ने अपने कर्मचारियों की जमीन के लिए जनुवानी कटगड़ीह में हास्टल का निर्माण करवाया है । हास्टल का जहा निर्माण है वह जमीन कंपनी ने राजस्व विभाग की अनुमति लेकर किया है , लेकिन इस हास्टल तक पहुंचने के लिए कंपनी के पास से जो रास्ता बनाया गया है वह वन भूमि की जमीन पर है । इस बात को लेकर कुछ साल पहले वन विभाग ने आपत्ति की थी । वहीं आवागमन का के लिए रास्ता भी बंद कराया गया था , लेकिन अब फिर से इसमें आवागमन का शुरू कर दिया गया है । खास बात यह है कि अब फिर से जो आवागमन शुरू हुआ है उस बात को लेकर वन विभाग की हीलाहवाली नीति जो उजागर हो रही है । वन विभाग घरघोड़ा के अधिकारी इस मामले को डिवीजन कार्यालय के अधिकारियों पर डाल रहे हैं तो डिवीजन कार्यालय के अधिकारी बात से पूरी तरह अनजान बन रहे हैं । इस मामले में चर्चा करने के लिए कंपनी के जीएम प्रहलाद प्रसाद से मोबाइल पर संपर्क किया गया , लेकिन उन्होंने रिसीव नहीं किया ।

मोटी रकम लेनदेन की चर्चा है जोरों पर

वन विभाग की जमीन पर बिना अनुमति निर्माण करने या अतिक्रमण करने पर कार्रवाई होती है , लेकिन टीआरएन कंपनी के द्वारा वन विभाग की लंबी – चौड़ी जमीन । पर रास्ता बना दिया गया है । इसके बाद भी वन विभाग के अधिकारी किसी प्रकार से कार्रवाई नहीं कर रहे । ऐसे में इस बात की चर्चा है कि इस मामले में वन विभाग के अधिकारियों द्वारा मोटी रकम की लेनदेन की गई है । हालांकि रायगढ़ डीएफओ इस बात से पूरी तरह इंकार कर रहे हैं ।

पीछे के रास्ते पर ग्रामीण ने जताई आपत्ति

इस हास्टल का जहां निर्माण किया गया है उसके पीछे रास्ता बनाए जाने की तैयारी कंपनी के द्वारा की गई थी । इसमें एक ग्रामीण की खेत है बताया जा रहा है कि कंपनी ने उक्त खेत को खरीदने का प्रस्ताव भी ग्रामीण को दिया , लेकिन ग्रामीण ने जमीन बेचने से इंकार कर दिया । ऐसे में कंपनी के द्वारा उक्त खेत पर मिटटी डाल दिया गया है ।

इस मामले में मुझे किसी प्रकार की जानकारी नहीं हैं मामले की जानकारी मातहत कर्मचारियों से लिया जाएगा । इसके बाद ही कुछ कहा जा सकेगा ।
मनोज पांडेय , डीएफओ रायगढ़

वन विभाग की भूमि पर सड़क बनाए जाने के मामले में रोक लगाया गया था और रास्ता बंद कराया गया था । अभी इसमें आवागमन की जानकारी नहीं हैं ।
उचित राम राठिया , रेंजर , घरघोड़ा