🇧🇾 🇧🇾 🇧🇾

निर्माण के राह में बढ़ते कदम
संघर्ष के लिये निर्माण और निर्माण के लिये संघर्ष.

शंकरगुहा नियोगी के बताये रास्ते पर चलते हुये जन मुक्ति मोर्चा संगठन के साथी अपने कार्यालय के पास की खेती में न केवल सामूहिक श्रम करके खेती करते है सब्जियां उगाते है बल्की उन्हें खुद स्थानीय बाजार में जाकर बेचते भी है । अपना उत्पादन से प्राप्त धन राशी का उपयोग यह लोग आंदोलन में करते है. सभी संगठन के साथी अपनी खुद का कृषी कार्य के अलावा यह काम करते है .सामूहिक भोजन बना कर श्रम का यह अद्भुत उदाहरण है ।जो संभवती कहीं दिखाई नहीं देता.