8.05..2019 / पत्रिका

पांडुका, गरियाबंद जिले के पाण्डुका थाना के बाथरूम में मंगलवार सुबह 9 बजे धारा 420 के आरोपी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली । मृतक चंगोराभांठा रायपुर का निवासी था । आत्महत्या की खबर लगते ही जिला मुख्यालय से लेकर राजधानी तक पुलिस प्रशासन में हड़कम मच गया । इस मामले में टीआई सहित पांच पुलिसकर्मियों को तत्काल सस्पेंड कर दिया गया है । पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक चंगोराभांठा रायपुर निवासी सुनील श्रीवास ने थाने के बाथरूम के वेंटीलेशन में अपने शर्ट को फंदा बनाकर फांसी लगा लिया । कोर्ट जाने से पहले सुनील बाथरूम में गया , लेकिन काफी देर तक बाहर नहीं निकलने पर आरक्षक ने खिड़की से झांककर देखा तो आरोपी फांसी पर झूलता दिखा ।


आरक्षक ने अन्य सिपाहियों को बुलाया और फिर दरवाजा तोड़कर युवक को फंदे से खोलकर बाहर निकाला । तब तक आरोपी की मौत हो चुकी थी । जिले में पुलिस कस्टडी में आरोपी द्वारा फांसी लगाने की यह दूसरी घटना है । आरोपी सुनील श्रीवास को पुलिस रविवार को रायपुर से रात 2 बजे गिरफ्तार कर पाण्डुका थाना लाई थी । दूसरे दिन उसे न्यायालय में पेश किया जाना था । मृतक के भाई अनिल श्रीवास व संदीप श्रीवास ने टीआई वेदबती । दरियो व अन्य पुलिस स्टॉफ के खिलाफ अपने भाई सुनील को जानबूझकर मारने और फिर आत्महत्या बताने का आरोप लगाया है ।

अपर कलेक्टर केके बेहार , एसपी गरियाबंद एमआर अहिरे , एएसपी सुखनंदन राठौर , संजय ध्रुव सहित जिले के आला अधिकारी सहित राजिम मजिस्ट्रेट विवेक नेताम की मौजूदगी में मामले की मजिस्ट्रयल जांच एवं पोस्टमार्टम कराया गया ।

यह था मामला


लोहरसी गांव के निवासी सेवकराम साहू ने थाने में शिकायत की थी कि जायका आटोमोबाइल अभनपुर के सेल्समैन सुनील श्रीवास ने पिकअप वाहन बेचने के लिए संपर्क किया था । उन्होंने 6 लाख 37 हजार जमा कर गाड़ी खरीद ली । लेकिन उसने कंपनी में पैसा जमा नहीं कराया । कंपनी से किस्त से लिए फोन आने पर मामले का खुलासा हुआ ।

हवालात में हुई सुसाइड के मामले की जानकारी एसपी गरियाबंद से मिली है।बाकी जानकारी गरियाबंद पुलिस से प्राप्त कर लेंगे ।
आनंद छाबड़ा, आईजी, रायपुर रेंज

मामले को गंभीरता से लेते हुए पांच पुलिसकर्मीयो को संस्पेंड किया गया है।आगे जाँच जारी है।
सुखनंदन राठौर, एएसपी,गरियाबंद