युद्धोन्माद और सांप्रदायिक नफरत के खिलाफ सांस्कृतिक संध्या

31 मार्च 2019 (रविवार), रायपुर (छ.ग.)

“जंग चाहते हैं आज जंगखोर_ _ _ _ _ _”
“भूख के विरुद्ध भात के लिए, हम लड़ेंगे, हमने ली कसम_ _ _ _ _ _ _”

पूरे देश की फ़िज़ा, अंधराष्ट्रवाद और युद्धोन्माद के ज़हर से कराह रही है। कॉर्पोरेट ताक़तों द्वारा आम जनता पर ताबड़तोड़ हमले करने के कारण बेरोजगारी, महंगाई, गरीबी सहित तमाम दुश्वारियां बढ़ती रही हैं। ऐसे माहौल में जंग के खिलाफ अमन, समता और धर्मनिरपेक्षता की आवाज़ को बुलंद करने के देशव्यापी अभियान के हिस्से के रूप में रायपुर में आगामी 31 मार्च 2019 को एक सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया गया है । सांस्कृतिक संध्या के मुख्य आकर्षण बंगाल के सिंगुर, नंदीग्राम समेत तमाम जनसंघर्षों के प्रमुख प्रतिवादी स्वर सुप्रसिद्ध जनगायक असीम गिरी होंगे। उनके साथ जबलपुर के सुप्रसिद्ध संस्कृतिकर्मी समर सेनगुप्ता द्वारा एकल अभिनय तथा भिलाई व रायपुर के संस्कृतिकर्मीयों द्वारा जनगीत, काव्यपाठ/सस्वर पाठ व लघुनाटिका का प्रस्तुतिकरण भी किया जाएगा। हमें विश्वास है कि प्रगतिशील सांस्कृतिक अभियान में हमारे साथ कंधे से कन्धा मिलाकर एकजुटता ज़ाहिर करने आप इस कार्यक्रम में शरीक़ होंगे।

कार्यक्रम : “जंग के खिलाफ अमन के लिए सांस्कृतिक संध्या”
दिन : 31 मार्च 2019 (रविवार)
समय : सांय 5 बजे
स्थान : वृन्दावन हॉल, सिविल लाइन्स, रायपुर (छ.ग.)