जंगल में ‘स्वर्ण मृग’ : सीमा आज़ाद

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

जंगल में ‘स्वर्ण मृग’

देखो,
इतिहास कैसे दोहराता है
खुद को

सीता ने जंगल में
फिर देख लिया है ‘स्वर्ण मृग’
राम ने आखेट का आदेश दे दिया है
लक्ष्मण निकाल पड़े हैं
हथियार लेकर।
फिर कटेगी नाक
शूर्पनाखाओं की,
शंबूकों के सिर
फिर कलम होंगे,
मारे जाएंगे जंगली सभी।

इस बार
लक्ष्मण पूजे जाएंगे
राष्ट्रभक्त सैनिक के रूप में
सीता विकास लाने वाली कम्पनी,
और राम
राष्ट्र के रूप में।

एक बार फिर
मैं देशद्रोही कहलाऊंगी
इसे लिखने के लिए।

सीमा आज़ाद 
7-3-2019

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

CG Basket

Next Post

रायपुर : मौजूदा मज़हबी जुनून और उर्दू सहाफत पर ब यादगारे कामरेड अकबर द्वारा गुफ्तगू का आयोजन : 

Mon Mar 11 , 2019
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.11.03.2019 : रायपुर  हम परवरिश-ए-लौह-ओ-क़लम करते रहेंगे , जो दिल पे गुज़रती है रक़म करते रहेंगे “, ब यादगारे कामरेड अकबर के दो दिवसीय आयोजन के दूसरे दिन फ़िल्म आर्ट कल्चर एंड थियेट्रिकल सोसायटी के बैनर तले गुफ्तगू का आयोजन महंत घासीदास […]

Breaking News