आज से अनिश्चितकालीन धरना प्रारंभ . स्वास्थ मंत्री ने फोन करके दिया कार्यवाही का आश्वासन .

बिलासपुर 1.02.2019

पिछले दिनों सिम्स बिलासपुर में आगजनी की घटना से बाईस बच्चों की गंभीर स्थिति और ऊनमे से पांच बच्चों की मौत से आहत सामाजिक कार्यकर्ता प्रियंका आज अपने साथियों के साथ देवकीनंदन चौक पर धरने पर बैठ गई.

उन्होने कहा कि सिम्स प्रबंधन और जिला प्रशासन ने आज तक कोई सार्थक कार्यवाही नहीँ की .जो जांच हुई हैं वह भी औपचारिक लीपापोती है जिसमें किसी को जिम्मेदार नहीं बताया गया है .यह कहा गया है कि इलेक्ट्रॉनिक शार्ट सर्किट से आग लगी मानो यह जिम्मेदारी उन बच्चों के परिजनों की थी न कि सिम्स प्रबंधन की .यह भी कहा गया था कि बीस बाईस दिन पहले कनेक्शन का तार बदला गया था. यह भी तथ्य है कि इलेक्ट्रिक सेक्शन में पिछले कई सालों से कोई स्टाफ ही नहीं है स्वीपर और बार्ड बाय से टेक्निकल काम लिया जा रहा हैं.

https://youtu.be/fCcNS9DqzmU ः CGBASKET.IN

प्रियंका ने कहा कि जो भी जिम्मेदार है उनपर कानूनी कार्यवाही की जाये .जो लोग परिजनों और प्रशासन से जानकारी छिपा रहे है और गलत इरादे से लोगों को बचा रहे है उन पर कार्यवाही की जावे. जिन बच्चों की मौत हुई हैं उनके परिवारों को पांच पांच लाख रूपये मुआवजा तथा अन्य बच्चों को दो लाख मुआवजा दिया जाये.जो परिजन इलाज करवाने आये हैं उनके रहने खाने की समुचित व्यवस्था की जाये.
हमारा यह भी कहना है कि यदि प्रशासन कुछ नही करता तो हम लोग हाईकोर्ट में जाकर गुहार लगायेंगे .

यह प्रतिरोध धरना आज से अनिश्चित कालीन करने की घोषणा की और बताया की रोज दोपहर दो बजे से शाम सात बजे तक देवकीनंदन चौक पर जारी रहेगा.

बाद में प्रियंका ने बताया कि स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिह देव ने फोन करके कहा कि वे किसी को धरना स्थल पर भेजकर मांग पत्र मंगा रहे है .जो भी दोषी होगा उसपर जरूर कार्यवाही की जायेगी.

इस विरोध प्रदर्शन में विभिन्न जन संगठन ,महिला संगठन तथा पत्रकार सुरक्षा समिति के लोग शामिल रहे . जिनमें लता सोनवानी, शिखा (अधिवक्ता), अनुज श्रीवास्तव, गौरव श्रीवास, पूजा श्रीवास, राजा श्रीवास, वर्षा शर्मा, जिया रात्रे, कपिल, सिमरन ध्रुव, दिलीप अग्रवाल, संजय कुमार यादव, राकेश प्रताप सिंह परिहार, गोविंद शर्मा अध्यक्ष , पत्रकार सुरक्षा समिति , महेंद्र दुबे, नीलोत्पल शुक्ला, डॉ लाखन सिंह, नन्द कश्यप, राधा श्रीवास आदि
शहर के कई नागरिक शामिल रहे.

 

***