बहुत सुखद होता है अपनेपन का वह एहसास ःः सविता तिवारी

4.12.2018

“एहसास ” ●

कभी कभी किसी अपरिचिता से मिलना बहुत ही खूबसूरत सी ख़ुशी का एहसास करा जाती है, लगता ही नहीं कि अपरिचिता है, प्यारे से चेहरे पर,प्यारी सी मुस्कान उनके अपने होने का एहसास करा जाती है,
बहुत सुखद होता है अपनेपन का वह एहसास,
जिसमें कोई शर्त नहीं होती,
न ही कोई दरकार,
अपनी सी अपरिचिता से बातें कर मन की उदासी, तन्हाई,
कहीं खो जाती है,
मन उमंगो, तरंगों और खुशियों के इंद्रधनुषी रंगों के साथ,
मधुर मुस्कान मेरे चेहरे पर ले आती है, सच में
” बहुत ही खूबसूरत होता है, एक खूबसूरत अपने के साथ, अपनेपन का खूबसूरत एहसास” “सवि”

**

अंतर्मन ☆

मैं दोहरे चरित्र में नहीं जी पाती हूं,
इसलिए अक्सर ही अकेली नजर आती हूं,
निश्चल अनुराग प्रेम से भरा सवि का अंतर्मन,
तकदीर उसकी हमेशा मीरा ही बन जाती है । “

**

अनुराग प्यार की अविरलता, समाई हुई मैं ह्रदय में
पर दूर हो तुम भी,
और दूर हैं हम भी .

**

सविता तिवारी 

CG Basket

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

भोपाल गैस त्रासदी विश्व की भयानक दुर्घटनाओं में से एक हैःः  डॉ दिनेश मिश्र.

Tue Dec 4 , 2018
Share on Facebook Tweet it Share on Google Pin it Share it Email जेआर दानी गर्ल्स हायर सेकेंडरी स्कूल में […]