सनसनीखेज आरोप ःः नितिन भंसाली

3.12.2018/ रायपुर 

रायपुर  / जोगी कांग्रेस के सबसे सक्रिय और बेहद जिम्मेदारी के साथ किसी भी बात को कहने वाले प्रवक्ता नितिन भंसाली के ताजा बयान ने एक नई चर्चा को जन्म दे दिया है।

अब तक विधायकों की खरीद-फरोख्त का आरोप जोगी और उनके पुत्र पर लगता रहा है तब भंसाली का यह बयान सामने आया है कि दो राष्ट्रीय दलों के लोगों की सिट्टी-पिट्टी गुम हैं और और वे सरकार बनाने के लिए उनके प्रत्याशियों यानि जोगी कांग्रेस और बसपा के लोगों से संपर्क कर रहे हैं।

प्रवक्ता भंसाली का यह भी दावा है कि उनके पास इस बात के पुख्ता सबूत है। अब यह सबूत अॉडियो टेप में हैं या वीडियो टेप में इसका खुलासा तो उन्होंने नहीं किया, लेकिन उनका दावा है कि अगर सबूत उजागर कर दिया गया तो छत्तीसगढ़ की राजनीति में भूचाल आ जाएगा।

बहरहाल भंसाली के इस बयान से ऐसा लगता है कि जोगी और उनकी पार्टी नई सरकार में अपनी दमदार भूमिका को लेकर जबरदस्त ढंग से आश्वस्त है। प्रदेश में कांग्रेस की लहर के बावजूद जोगी को बसपा के गठबंधन के साथ कुल 21 सीटों पर जीत की उम्मीद है। आने वाले 11 दिसंबर को जोगी की माया क्या गुल खिलाती हैं यह देखना दिलचस्प होगा। वैसे राजनीति के धुरंधर पंडितों का कहना है कि भले ही कोई उन्हें भाजपा की बी टीम कहे लेकिन हाल के दिनों में उन्होंने सात-आठ धर्म ग्रंथों की शपथ ले ली हैं इसलिए वे कम से कम भाजपा के साथ नहीं जाएंगे। एक विश्लेषक का नया तर्क यह भी था कि जोगी अगर भाजपा के साथ नहीं गए तो क्या होगा? भाजपा वाले उनका समर्थन बाहर से मांग सकते हैं। जोगी की कांग्रेस में कोई स्वीकार्यता बनेगी या नहीं…. इसे लेकर भी कई तरह की बातें चल रही हैं। उन्हें जानने- समझने वाले कहते हैं कि दस जनपथ का एक फोन कई नेताओं का ह्रदय परिवर्तन कर सकता है। वैसे जोगी कांग्रेस के सुप्रीमों अजीत जोगी ने पांच दिसम्बर को राजधानी में नब्बे विधानसभा के अपने और बसपा के प्रत्याशियों के साथ एक आवश्यक बैठक भी बुलाई है। इस बैठक में वे वन टू वन चर्चा करेंगे और यह भी जानेंगे कि उनके प्रत्याशियों के साथ कौन-कौन से नेताओं ने डोरे डाले है?

**

Be the first to comment

Leave a Reply