23.11.2018ःः रायपुर 

 

 छत्तीसगढ़ के जनसंपर्क विभाग में बतौर आयुक्त पदस्थ रहे राजेश टोप्पो सहित भाजपा के एजेंट बनकर काम कर रहे कई अफसरों पर जुर्म दर्ज करने की तैयारी चल रही है। छत्तीसगढ़ में कई दिग्गज अफसरों के दस्तावेजों के साथ मिली गंभीर शिकायतों के बाद कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व कानून विशेषज्ञों से सलाह- मशविरा कर रहा है। इधर खबर है कि पत्रकारों का एक वर्ग भी टोप्पो के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की योजना पर विचार कर रहा है।

गौरतलब है कि अभी चंद रोज पहले भारतीय प्रशासनिक सेवा के अफसर राजेश टोप्पो का एक वीडियो वायरल हुआ है। इस वीडियो में टोप्पो यह कहते हुए दिख रहे हैं कि उन्हें कांग्रेस नेताओं के वीडियो चाहिए। ऐसे वीडियो जिसमें कांग्रेस के रविंद्र चौबे, ताम्रध्वज साहू, चरणदास महंत जैसे बड़े नेता भूपेश बघेल को गाली दे रहे हो। इतना ही नहीं एक वीडियो में टोप्पो राजधानी के कुछ बड़े पत्रकारों की सेक्स सीडी बनवाने के लिए एक शख्स को सीएम से मिलवाने की बात भी कहते हुए नजर आए हैं। इस वीडियो में यह भी खुलासा होता है कि पहली खेप में एक शख्स मुख्यमंत्री के जनसंपर्क विभाग से तगड़े पैसे लेकर कुछ पत्रकारों को बैंकाक- पटाया ले जाने में सफल हो गया था। इस वीडियो में टोप्पो यह भी कहते हैं- तुमको पैसे दे दिया तो राजनांदगांव के कई पत्रकार मुझसे मिलने आ गए थे।

वैसे कल गुरुवार को यहां राजधानी में हुई एक पत्रकार वार्ता में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल ने फिर एक बार आरोप लगाया है कि कांग्रेस नेताओं के फेंक न्यूज बनाने के मामले में कंसोल इंडिया नाम की एक कंपनी सक्रिय रही हैं। यह कंपनी जनसंपर्क विभाग के साथ मिलकर कांग्रेस नेताओं के खिलाफ साजिश रचती रही है। इस कंपनी ने ही किसानों के बीच भ्रम फैलाने का काम किया। पत्रकार वार्ता में ही यह तथ्य भी उजागर हुआ कि कंपनी के लिए जमा नाम का एक शख्स काम करता था। यह शख्स प्रदेश के एक कद्दावर अफसर का रिश्तेदार भी बताया जा रहा है। कांग्रेस ने इस मामले ऐसे कई फोन नंबरों की जानकारी हासिल की है जिससे झूठी खबरें भेजी गई है। इतना ही नहीं जिन मोबाइल नंबरों पर खबरें आई हैं उन्हें भी सुरक्षित रखा गया है। खबर यह भी यह भी है कि कुछ पत्रकारों ने जमा नाम के शख्स के साथ कार्यरत कतिपय पत्रकारों/ कर्मचारियों का वीडियो और अॉडियो भी बना लिया है। यह वीडियो और अॉडियो पूर्व में किए गए स्टिंग से बेहद अलग है और चौकाने वाला है।

भाजपा को मदद पहुंचाने वाले अफसरों पर नजर

इधर कांग्रेस सरकार बनने की संभावना बलवती देखकर अफसरों के एक बड़े वर्ग ने पलटी मारना प्रारंभ कर दिया है। प्रदेश के ऐसे अफसर जो गिरोह चलाने वाले एक अफसर की गैंगबाजी से परेशान थे उन्होंने कांग्रेस के नेताओं को बेहद अहम- गोपनीय और चौकाने वाली जानकारी मुहैया करवाई है। सूत्रों पर यकीन करें तो भाजपा के लिए तन- मन-धन से काम करने वाले अफसरों के खिलाफ पुख्ता सबूत जुटा लिए गए हैं। सूत्रों के मुताबिक कई जगह के अफसर राडार में हैं जो अपने आका को यह कहते हुए नजर आ रहे हैं कि- बाजी पलट देंगे सर…भाजपा ही जीतेगी। कांग्रेस ने ऐसे सभी अफसरों और इवीएम हैंक करने वालों की जानकारी देने के लिए अपने सभी प्रत्याशियों की एक बैठक 28 नवंबर को आहूत की है।

**