साथियों,
आज के इस अंधकारमय, उन्माद भरे दौर में लोगो के बीच मानवमुक्ति, इंसानियत, अमन की सोच कायम करना बहुत ज़रूरी है | गंगा जमुनी तहजीब, प्रेम, सौहाद्र और बहनापा / भाईचारा हमारी ताक़त रही है | हमें हर किस्म के भेदभाव, हिंसा, असहिष्णुता को दरकिनार कर लोगों को करीब लाना है | एक संवेदनशील और बराबरी पर आधारित समाज बनाना है |
इसी उद्देश्य से मौजूदा संघर्षमय हालात को कविताओं / गीतों के ज़रिये लोगों तक पहुँचाने का एक विनम्र प्रयास है पैगाम – ए – अमन | कार्यक्रम में रचनात्मकता के क्षेत्र में सक्रिय कवयित्रियों द्वारा प्रस्तुत हिंसा के खिलाफ अमन पर आधारित कविताएँ व गीत सुनने का हमें अवसर मिलेगा | कार्यक्रम में आपको तहेदिल से आमंत्रित करते हैं | आइये इस मौके पर कविताओं व गीतों के ज़रिये लोगों के दिलों में प्रेम व अमन के दीप जलाएं |

दिन – 23 नवम्बर 2018 (शुक्रवार)
समय – दिन के 11 बजे से 02 बजे तक
स्थान – वृंदावन हॉल, आई. डी. बी. आई. बैंक के समीप, सिविल लाइन्स, रायपुर (छ. ग.)
आयोजक – क्रांतिकारी सांस्कृतिक मंच व पीस रायपुर