बैगा आदिवासी इंदिरा आवास की राशि के लिए भटक रहे हैं वर्षो से ,कोई सुनवाई नहीं

बैगा  आदिवासी इंदिरा आवास की राशि के लिए भटक रहे हैं वर्षो से ,कोई सुनवाई नहीं 

बोड़ला। विकासखंड मुख्यालय के बैगाचक क्षेत्र के अनेक गांवों में इंदिरा आवास की राशि के लिए लोगों को भटकना पड़ रहा है, राजाढ़ार पंचायत के आश्रित ग्राम बेलापानी में सत्र 2011-12 की बकाया किश्‍त की राशि के इंतजार में कई बैगा परिवारों को आर्थिक समस्याओं से जूझना पड़ रहा है, राशि के अभाव में कुछ परिवारों के घर पूरे नहीं हो पाए थे और बरसात के समय अधूरा घर गिर गया वहीं कई परिवार कर्ज से लद चुके हैं।
बेलापानी में सत्र 2011-12 में 6 परिवारों को इंदिरा आवास योजना का लाभ मिला था, इनमें महेश पिता सुखीराम, मदन पिता चुन्टू बैगा, सोलेलाल अघनसिंह बैगा, फुलसिंह दयालसिंह बैगा, लखन देवलू बैगा, लक्ष्मण देवलू बैगा, को आज भी पैसे का इंतजार है, जिससे की वे अपने घर को पुनः बना सके और कर्ज को पटा सके।
सालों से लटकी है राशि
ग्राम बेलापानी के महेश बैगा ने बताया की गांव के मदन, सोलेलाल, फुलसिंह, लखन, लक्ष्मण बैगा, को आज भी पैसे का इंतजार है, जिससे की वे अपने घर को पुनः बना सके और कर्जे को पटा सके, उन्हें शासन द्वारा 40 हजार की राशि ही प्राप्त हो चुकी है, बाकी राशि के लिए उनके द्वारा पंचायत, जनपद पंचायत व जिला कार्यालय के चक्कर काटने के बाद भी उनको किस्त की राशि नहीं मिल पाई है।
गिर रहे हैं घर
पैसे के अभाव में बेलापानी के कई घर गिर चुके हैं, ग्रामीण मानसिंह बैगा ने बताया कि पैसे की कमी के चलते बारिश के समय घर में छप्पर नहीं डाल पाने के कारण उनका घर गिर गया, तीन साल गुजरने के बाद भी राशि नहीं मिलने से वे लोग हताश हो चुके हैं, उन्हें कार्यालय मे सिवाय आश्वासन के कुछ नहीं मिल रहा है ।
कर्ज से लद गए लोग
ग्रामीण शिवलाल बैगा सोनसिंह बैगा ने बताया आवास की राशि की किस्त हितग्राहियों को प्राप्त नहीं होने से उनके द्वारा आधे अधूरे मकान को पूरा करने के लिए साहूकारों से कर्ज लेकर मकान को जैसे-तैसे बचाया गया, लेकिन राशि नहीं मिलने से लेनदारों को पैसा नही जमा नहीं किए जाने से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
मुख्यमंत्री से शिकायत
इस मामले को लेकर लोक सुराज योजना के अंतर्गत गत दिनों मुख्यमंत्री के राजाढ़ार पहुंचने पर इंदिरा आवास की राशि नहीं मिले जाने को लेकर ग्रामीणों ने सीधे शिकायत की। उन्होंने बताया की पंचायत के राजाढ़ार, बेलापानी, सरोधादादर, धवईपानी, तुरईयाबहरा गांवो में राशि के अभाव में लोगों को भटकना पड़ रहा है।
तकनीकी कारणों की वजह से इनका भुगतान रूका हुआ है। पूरे जिले में वर्ष 2011-12 का भुगतान रूका है। जिला स्तर पर पहल लगातार जारी है हितग्राहियों को शीघ्र ही भुगतान किया जाएगा।
दिनेश चंद्राकर, सीईओ जनपद पंचायत बोड़ला

– See more at: http://naidunia.jagran.com/chhattisgarh/kawardha-kawardha-news-collector-p-dayanand-indira-awas-labor-district-panchayat-bodla-353373#sthash.vNwlrh9W.dpuf

Leave a Reply

You may have missed