SECL गेवरा ,दीपिका ,कुसमुंडा व कोरबा से प्रभावित किसान नहीं होंगे अटल विकास यात्रा में शामिल

 

कोरबा: 21.09.2019 

दिनांक 24/09/2018 को ,अटल विकास यात्रा के तहत मा. मुख्यमंत्री छग शासन एवम केन्द्रीय कोयला मंत्री का प्रवास ग्राम हरदी बाज़ार में हो रहा है , इस विकास यात्रा में भू विस्थापित संगठन व SECL प्रभावितो ने नहीं शामिल होने का निर्णय लिया है क्योकि-

ऊर्जाधानी भू विस्थापित संगठन के प्रतिनिधियो ने 04 बार मा. मुख्यमंत्री छग शासन डॉ रमन सिंह व 02 बार मा. केन्द्रीय कोयला मंत्री पीयूष गोयल से मिलकर SECL गेवरा ,दीपका ,कुसमुंडा व कोरबा से प्रभावितो की समस्या से अवगत कराया था , लेकिन केवल झूठा आश्वासन दिया गया और निम्न समस्या का निराकरण अभी तक नहीं किया गया है-

1) नए केन्द्रीय भूमि कानून (RFCTARR Act 2013) के प्रावधान के अनुसार वर्तमान बाज़ार भाव का 04 गुना मुआवजा देना था लेकिन राज्य शासन से विधानसभा में प्रस्तावित कर इसे 02 गुना कर दिया है |

2) हमारे द्वारा कोल इंडिया की R & R policy 2012 में संशोधन की मांग कोयला मंत्री पीयूष गोयल से मिलकर किया था लेकिन केवल झूठा आश्वाशन दिया गया लेकिन आज तक संशोधन नहीं हो पाया है |

इसी प्रकार से रोजगार ,मुआवजा व पुनार्वास्थापन से संबधित अनेक समस्या SECL गेवरा,दीपका ,कुसमुंडा व कोरबा से प्रभावितों यथावत बनी हुई है ,लेकिन प्रदेश की मुखिया को भू विस्थापितों की समस्या से कोई सरोकार नहीं क्षेत्रीय सांसद व विधायक ने कई बार भू विस्थापितों की समस्या को लेकर प्रदेश की मुखिया को पत्र लिखा है , लोक सभा में समस्या को उठाया है लेकिन फिर भी समस्या यथावत बनी हुई है , इसीलिए भू विस्थापित संगठन , अटल विकास यात्रा का विरोध करता है और भू विस्थापितों ने निर्णय लिया है की वे 24/09/2018 को ग्राम हरदी बाज़ार में अटल विकास यात्रा के कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगे | और हमें उम्मीद है की कटघोरा विधान सभा में भू विस्थापितों की समस्या को नजर अंदाज करने वाली पार्टी को आने वाले चुनाव में भू विस्थापित वोटर जरूर नजर अंदाज करेंगे |

**

ऊर्जाधानी भू विस्थापित संगठन
जिला कोरबा छ.ग

 

Leave a Reply

You may have missed