2 से 13 अक्टूबर 2018 से बस्तर मध्य भारत में शांति के लिए पदयात्रा . गोदावरी के चट्टी गांव से जगदलपुर .

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

 

13.09.2018

महात्मा गांधी की 150 वीं जन्म शताब्दी की शुरुआत में 150 से अधिक आदिवासी और उनके अन्य साथी आंध्रप्रदेश से बस्तर तक सभी पक्षों से शांति की मांग करते हुए उन्हीं रास्तों से सांकेतिक रूप से पैदल चलेंगे जहां से माओवादी 1980 में बस्तर आये थे…

भारत सरकार के द्वारा हाल में जारी किये गए आंकड़ों के अनुसार पिछले 20 सालों में मध्य भारत में जारी माओवादी हिंसा और प्रति-हिंसा में 12,000 से अधिक लोग मारे गए हैं | इसमें एक ओर जहां 2700 सरकारी सुरक्षा कर्मियों की जान गयी है वहीं दोनों ओर की हिंसा में मारे गए आम लोगों की संख्या 9300 से अधिक है जिनमें से ज़्यादातर आदिवासी हैं

मध्य भारत में सशस्त्र कट्टर माओवाद से पनपी अशांति दूर करने के लिए पिछले जून माह से एक पहल शुरू हुई है | इस पहल की अगली कड़ी के रूप में अगले 2 अक्टूबर से एक पद यात्रा का आयोजन किया गया है | 2 अक्टूबर 2018 को महात्मा गांधी की 150 वीं जन्म शताब्दी की शुरुआत भी हो रही है | 1980 में तत्कालीन आँध्र प्रदेश से माओवादी जिस रास्ते से मध्य भारत के 6 राज्यों में फैले दंडकारण्य जंगल में आये थे, शांति पद-यात्री सांकेतिक रूप से उस रास्ते से ही चलेंगे और सभी पक्षों से शांति का अनुरोध करेंगे

अगर आप इस पदयात्रा में शामिल होना चाहते हैं तो कृपया 1 अक्टूबर तक आंध्र प्रदेश के पूर्वी गोदावरी जिले के चट्टी गाँव में स्थित शबरी गांधी आश्रम में पधारें | भद्राचलम रोड, राजमंड्री और खम्मम के पास रेलवे स्टेशन हैं वहां से आपको चट्टी के लिए बसें मिलेंगी | आप रायपुर से भी बस से चट्टी आ सकते हैं | चट्टी के पास का बड़ा गाँव चिंतुरु है और यह छत्तीसगढ़ राज्य के आख़िरी कस्बे कोंटा से लगा हुआ है | जगदलपुर से भद्राचलम और हैदराबाद जाने वाली बसें चट्टी होकर जाती हैं | राजमंड्री सबसे पास का हवाई अड्डा है

शांति पद-यात्री 2 अक्टूबर से चलकर 13 अक्टूबर को छत्तीसगढ़ में बस्तर के जिला मुख्यालय जगदलपुर पहुंचकर शांति के आव्हान के लिए एक आमसभा करेंगे | पदयात्री प्रतिदिन 15 से 20 किलोमीटर पैदल चलेंगे और रास्ते में पड़ रहे गाँव में जनसम्पर्क करने का प्रयास करेंगे 

| | यदि आप इसमें आयोजक या स्वयंसेवक के रूप में शामिल होना चाहते हैं या आर्थिक या कोई और मदद करना चाहते हैं तो कृपया 9811066749 या 8602007333 पर संपर्क करें

वी बी चंद्रसेकरन ( शबरी गांधी आश्रमम, चट्टी), सी आर बक्शी, मनीष कुंजाम (आदिवासी महासभा), आरजू सिडम (तेलंगाना), नेहरू मड़ावी (आँध्रप्रदेश), रवींद्र माड़ी( उड़ीसा), बी पी एस नेताम (सर्व आदिवासी समाज छत्तीसगढ़), उत्तम आतला (महाराष्ट्र), शेर सिंह आचला, अजय टी जी, विष्णु पद्दा, हरि सिंह सिदार, भान साहू, शुभ्रांशु चौधरी, कमल शुक्ला तथा साथी (छत्तीसगढ़)

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

CG Basket

Next Post

⭕ बात निकली है तो अब दूर तलक जाएगी - एक और कविता अनुज श्रीवास्तव

Thu Sep 13 , 2018
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.अनुज श्रीवास्तव के जन्मदिन पर हमारे आग्रह पर प्रस्तुत . बात निकली है तो अब दूर तलक जाएगी लोग बेवजह की मौतों का सबब पूछेंगे ये भी पूछेंगे के तुम इतने डरे से क्यूं हो उँगलियाँ उट्ठेगीं सूखे हुए तालों की तरफ़ […]

Breaking News