विवेकानंद की सहिष्णुता के शिकागो में  :  “अकेले शेर और जंगली कुत्तों की”  : भागवत_कथा . : बादल सरोज 

विवेकानंद की सहिष्णुता के शिकागो में  :  “अकेले शेर और जंगली कुत्तों की”  : भागवत_कथा . : बादल सरोज 

11.09.2018

● वैसे तो 7 सितम्बर 2018 को शिकागो में शुरू हुई विश्व हिन्दू कांग्रेस के मंच से दिये आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के भाषण की तुलना स्वामी विवेकानंद के 11 सितम्बर 1893 को शिकागो में ही हुई विश्व धर्म संसद में दिए गए प्रख्यात संबोधन से करना विडंबना की अति है। मगर यह साम्य खुद आयोजको ने थोपा है, इसलिए कोई विकल्प नहीं बचता। इस “विश्व” हिन्दू सम्मेलन में दिए गए संघप्रमुख के संबोधन को विवेकानंद के भाषण की सवा सौ वीं वर्षगांठ के अवसर पर दिया गया बताया है। यह बात अलग है कि इसमें विवेकानंद के उस संबोधन की सारवस्तु का लेशमात्र तक नहीं है। बल्कि अपने सार और रुप दोनों में यह उस संदेश और उसकी भावना का विलोम और नकार है।

● 125 वर्ष पहले मात्र 5 मिनट के 462 शब्दों ( यह हिंदी पाठ की शब्द संख्या है, विवेकानंद अंग्रेजी में बोले थे) में विवेकानंद ने भारत की विचार परम्परा की जो प्रस्तुति की थी, अपने 40-45 मिनट के संबोधन में मोहन भागवत नेे उसे इंचभर आगे बढ़ाना तो दूर सदियों पीछे ले जाने का ही काम किया है।

● संघ प्रमुख ‘‘हिन्दूओ को हजारो साल से त्रस्त और पीडि़त, उत्पीडि़त समुदाय और ‘कभी एक साथ न चलने वाली कौम’ निरुपित करते हुए जिस हीनता-सिंड्रोम को बयान कर रहे थे, वह आरएसएस की शाखाओ में दिए जाने वाले ‘बौद्धिक’ का स्थायी भाव है। विश्व का कोई भी समुदाय स्वयं को इतनी नकारात्मकता के साथ और इस तरह से व्याख्यायित-परिभाषित नहीं करता। इसकी तुलना में याद आता है विवेकानंद का शिकागो भाषण जिसमें इससे ठीक उलट वे कहते है कि ‘‘मैं एक ऐसे धर्म से हूं जिसने दुनिया को सहनशीलता, सहिष्णुता और सार्वभौमिक स्वीकृति का पाठ पढ़ाया है। हम सिर्फ सार्वभौमिक सहिष्णुता में ही विश्वास नहीं रखते, बल्कि हम विश्व के सभी धर्मों को सत्य के रुप में स्वीकार करते है।’’

● विवेकानंद लज्जा और कातर भाव के साथ अपनी हीनग्रंथि का वैश्विक प्रदर्शन करने की बजाय अपने अति संक्षिप्त भाषण में भी दुनिया के तमाम धर्मों द्वारा भारत को चुने जाने और भारत द्वारा उन्हें स्वीकार किए जाने की विरल विशिष्टता को गिना जाते है। वे मनुष्यता के समग्र के अंश के रुप में खुद को गौरवान्वित पाते है तो भागवत ‘‘हमारे मूल्य दुनियां भर के मूल्य है, हमारे पास सब था, हम सब जानते थे” कहते कहते, “हिन्दू ही सर्वश्रेष्ठ है और 20 वर्ष में दुनियां उसकी होगी” तक का संकेत दे जाते है।
● सो भी उन विवेकानंद के नाम पर जिन्होंने 125 वर्ष पहले इसी शिकागो में कहा था कि ‘‘जिस तरह अलग अलग स्त्रोतों से निकली नदियां अंत में समुद्र में जाकर मिलती है,उसी तरह मनुष्य अपनी इच्छा के अनुरुप अलग अलग मार्ग चुनता है। वे देखने में भले ही सीधे या टेढ़ेे-मेढ़े लगें, पर सभी एक भगवान तक ही जाते है।’’ (उनका श्लोक था ; “रुचीनां वैचित्र्यादृजुकुटिलनानापथजुषाम् ।
नृणामेको गम्यस्त्वमसि पयसामर्णव इव”।।)

● विवेकानंद जहां ‘‘सभी जाति सम्प्रदाय के लाखों करोड़ों हिन्दुओ की तरफ से विश्व धर्म संसद का आभार’’ व्यक्त करते है वही भागवत हिंदू धर्म के अनेक योग्य (मेरिटोरियस) लोगों की मेरिट का बखान करते हुए दिखते है। मौजूदा विमर्श में ‘मेरिट’ शब्द का चयन अनायास नहीं है।

● 125 साल पहले शिकागो में विवेकानंद की समझ और प्रस्तुति जहां समावेशी (इन्क्लूसिव) है, वही उसी शिकागो में आरएसएस प्रमुख अलगाव (एक्सक्लूजनरी) के आक्रमण और आत्म-निष्कासित नैरेटिव के साथ नजर आना चाहते है।

● अकेले शेर और जंगली कुत्तों का उनका रुपक अंतर्राष्ट्रीय मंचों की गरिमा के प्रतिकूल भर नहीं है बल्कि उस हत-आहत ग्रंथि (हर्ट सिंड्रोम) की ही रिसन है जो अब बकौल मोहन भागवत खुद को हमलावर के रुप में संगठित करने की ओर सुमंत्रिते – सुविक्रांते की धजा में उन्मुख होनी चाहिए।

● उन्हें याद दिलाया जाना उपयोगी होगा कि शिकागो की धर्म-संसद के समापन सत्र में बोलते हुए विवेकानंद ने कहा था कि “”अजीब मुश्किल है, मैं हिन्दू हूँ और अपने बनाये कुंए में बैठा मान रहा हूँ कि पूरी दुनिया इस कुंए जितनी छोटी सी है। ईसाई अपने कुंए में बैठे उसे पूरी दुनिया माने बैठे हैं। मुसलमान अपने कुंए में बैठे उसे पूरी दुनिया माने बैठे हैं। ”

● इसे आगे बढ़ाते हुए वे बोले थे कि “यहाँ यदि किसी को यह आशा है कि यह एकता किसी के लिये या किसी एक धर्म के लिये सफलता बनकर आयेगी और दूसरे के लिए विनाश बनकर आयेगी , तो मै उन्हेंसे कहना चाहता हूँ कि , “भाइयो, आपकी आशा बिल्कुल असंभव है.

11 सितम्बर 1893 में इसी शिकागो में विवेकानंद ने कहा था कि;

“साम्प्रदायिकताए, कट्टरताएं और इसकी भयानक वंशज हठधर्मिता लंबे समय से पृथ्वी को अपने शिकंजों में जकड़े हुए है। इन्होंने पृथ्वी को हिंसा से भर दिया है। कितनी बार ही यह धरती खून से लाल हुई है। कितनी ही सम्यताओं का विनाश हुआ है न जाने कितने देश नष्ट हुए है। अगर ये भयानक राक्षस नहीं होते तो आज मानव समाज कहीं ज्यादा उन्नत होता, लेकिन अब उनका समय पूरा हो चुका है। मुझे पूरी उम्मीद है कि आज इस सम्मेलन का शंखनाद सभी हठधर्मिताओं, हर तरह के क्लेश, चाहे वे तलवार से हो या कलम से सभी मनुष्यों के बीच की दुर्भावनाओं का विनाश करेगा। ”

● इन उदगारों से ठीक उल्टी गुलान्ट मारकर ‘‘दुनिया को हमारी समझ और बुद्धिमत्ता की सख्त जरुरत है’’ से होते हुए मोहन भागवत सौ फीसद आज्ञाकारिता और, भक्तिभाव की शर्त भी दोहरा देते है, जब वे कहते है कि ‘‘कृष्ण ने कभी युधिष्ठिर की बात नहीं काटी थी।” संघ के स्वयं सेवक प्रधानमंत्री इसे हनुमान के रुपक में पहले ही कह चुके है कि ‘‘हनुमान से सीखने की जरुरत है, उन्होंने कभी कोई प्रश्न नहीं किया, कभी शिकायत नहीं की, जो कहा गया उसे ही लागू किया।’’

● निस्संदेह आरएसएस प्रमुख इस गुणवाले जिस भारत का बखान कर रहे थे वैसा वे कल का भारत बनाना जरूर चाहते है, किंतु गुजरे कल और आज का भारत ऐसा नहीं है। वह प्रश्नाकुलता को प्रोत्साहित करने वाला है, चुप्प रहने वाला नहीं, वादे वादे जायते तत्वबोध; वाला भारत है। सत्य के लिए ईश्वर तक से न डरने की बात कहने वाला भारत है। जो भारत सदियों से ऐसा है उसे ऐसा-वैसा बनाने की कल्पना सहज साकार होने वाली नहीं है।

● खुद को समाजवादी कहने वाले, रूढि़वाद के विरुद्ध साहसी सुधारक विवेकानंद की 125वीं वर्षगांठ मनाने के लिए आरएसएस के नाम पर कथित विश्व हिन्दू सम्मेलन का ही आयोजन ही एक विलोम था-रही सही कसर संघ प्रमुख ने भाषण में पूरी कर दी।

● भारतीय समाज और विचार परंपरा में जो भी सकारात्मक और प्रकाशमान है उस सबको धूमिल और विलुप्त कर देने की आरएसएस की मुहिम अब विवेकानंद तक पहुंच गई है। 7 सितम्बर 2018 को आरएसएस प्रमुख इसी मुहिम को आगे बढ़ा रहे थे।
**

 

स्वामी विवेकानंद ने 11 सितंबर 1893 को शिकागो (अमेरिका) में हुए विश्व धर्म सम्मेलन में एक बेहद चर्चित भाषण दिया था। विवेकानंद का जब भी जि़क्र आता है उनके इस भाषण की चर्चा जरूर होती है। पढ़ें विवेकानंद का यह भाषण…

अमेरिका के बहनो और भाइयो,

आपके इस स्नेहपूर्ण और जोरदार स्वागत से मेरा हृदय अपार हर्ष से भर गया है। मैं आपको दुनिया की सबसे प्राचीन संत परंपरा की तरफ से धन्यवाद देता हूं। मैं आपको सभी धर्मों की जननी की तरफ से धन्यवाद देता हूं और सभी जाति, संप्रदाय के लाखों, करोड़ों हिन्दुओं की तरफ से आपका आभार व्यक्त करता हूं। मेरा धन्यवाद कुछ उन वक्ताओं को भी जिन्होंने इस मंच से यह कहा कि दुनिया में सहनशीलता का विचार सुदूर पूरब के देशों से फैला है। मुझे गर्व है कि मैं एक ऐसे धर्म से हूं, जिसने दुनिया को सहनशीलता और सार्वभौमिक स्वीकृति का पाठ पढ़ाया है। हम सिर्फ सार्वभौमिक सहनशीलता में ही विश्वास नहीं रखते, बल्कि हम विश्व के सभी धर्मों को सत्य के रूप में स्वीकार करते हैं।

मुझे गर्व है कि मैं एक ऐसे देश से हूं, जिसने इस धरती के सभी देशों और धर्मों के परेशान और सताए गए लोगों को शरण दी है। मुझे यह बताते हुए गर्व हो रहा है कि हमने अपने हृदय में उन इस्त्राइलियों की पवित्र स्मृतियां संजोकर रखी हैं, जिनके धर्म स्थलों को रोमन हमलावरों ने तोड़-तोड़कर खंडहर बना दिया था। और तब उन्होंने दक्षिण भारत में शरण ली थी। मुझे इस बात का गर्व है कि मैं एक ऐसे धर्म से हूं, जिसने महान पारसी धर्म के लोगों को शरण दी और अभी भी उन्हें पाल-पोस रहा है। भाइयो, मैं आपको एक श्लोक की कुछ पंक्तियां सुनाना चाहूंगा जिसे मैंने बचपन से स्मरण किया और दोहराया है और जो रोज करोड़ों लोगों द्वारा हर दिन दोहराया जाता है: जिस तरह अलग-अलग स्त्रोतों से निकली विभिन्न नदियां अंत में समुद में जाकर मिलती हैं, उसी तरह मनुष्य अपनी इच्छा के अनुरूप अलग-अलग मार्ग चुनता है। वे देखने में भले ही सीधे या टेढ़े-मेढ़े लगें, पर सभी भगवान तक ही जाते हैं।वर्तमान सम्मेलन जोकि आज तक की सबसे पवित्र सभाओं में से है, गीता में बताए गए इस सिद्धांत का प्रमाण है: जो भी मुझ तक आता है, चाहे वह कैसा भी हो, मैं उस तक पहुंचता हूं। लोग चाहे कोई भी रास्ता चुनें, आखिर में मुझ तक ही पहुंचते हैं।

सांप्रदायिकताएं, कट्टरताएं और इसके भयानक वंशज हठधमिर्ता लंबे समय से पृथ्वी को अपने शिकंजों में जकड़े हुए हैं। इन्होंने पृथ्वी को हिंसा से भर दिया है। कितनी बार ही यह धरती खून से लाल हुई है। कितनी ही सभ्यताओं का विनाश हुआ है और न जाने कितने देश नष्ट हुए हैं।

अगर ये भयानक राक्षस नहीं होते तो आज मानव समाज कहीं ज्यादा उन्नत होता, लेकिन अब उनका समय पूरा हो चुका है। मुझे पूरी उम्मीद है कि आज इस सम्मेलन का शंखनाद सभी हठधर्मिताओं, हर तरह के क्लेश, चाहे वे तलवार से हों या कलम से और सभी मनुष्यों के बीच की दुर्भावनाओं का विनाश करेगा।

***

CG Basket

Related Posts

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account