रायपुर बलौदाबाजार : राज्य सरकार की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ क्षेत्र के किसानों को एकजुट कर किया जाएगा आंदोलन.

2.09.2018/ रायपुर बलौदाबाजार 

रायपुर एवं बलोदाबाजर जिले के किसानों की बैठक आज दिनांक 1 सितम्बर 2018 को पेंड्रावन जलाशय बचाओ किसान संघर्ष समिति के बैनर तले ग्राम बंगोली के सिचाई विभाग के रेस्ट हाउस परिसर में आयोजित की गई l बैठक में प्रदेश के किसानो की बदहाल आर्थिक स्थिति पर चिंता जताते हुए राज्य सरकार का किसानो के प्रति उदासीन रवैये की निंदा की गई l किसान प्रतिनिधियों ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार द्वारा समर्थन मूल्य में सिर्फ थोड़ी सी बढोत्तरी कर डेढ़ गुना दाम देने का झूठा प्रचार किया जा रहा हैं जबकि हकीकत में स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश अनुसार धान पर लागत का डेढ़ गुना समर्थन मूल्य नही मिला रहा हैं l पिछले वर्ष गंभीर सूखे से किसान आर्थिक संकट से गुजर रहा हैंl

 

एक तरफ उधोगपतियो के लाखो करोड़ रुपयों को एन पी ए के रूप में माफ़ किया जा रहा हैं परंतु किसानों की कर्ज माफ़ी के लिए सरकार पैसा नहीं होने का रोना रो रही हैं l रमन सरकार ने चुनाव पूर्व सभी वर्षो का धान का 300 रुपया बोनस देने का वादा किया था, परन्तु उस वादे को भी भुला दिया गया था l प्रदेश भर के किसानों के व्यापक आन्दोलन को देखते हुए चुनावी वर्ष में बोनस दिया गया हैं परन्तु पिछले दो वर्षो के बोनस पर राज्य सरकार आज भी मौन साधे बेठी हैं l

 

रायपुर जिले के ग्राम बंगोली, खोना, कुर्रा, तरेसर, लालपुर, पथरी, लखना, मुर्रा, जरोंदा, दोंदेखुर्द, मटिया, सारागांव, मंगसा सहित बलोदाबाजार जिले के किसानों ने कहा कि बीमा कंपनियों की मनमानी के कारण क्षेत्र के किसान फसल बीमा के भुगतान से वंचित हैं l इस पूरी प्रक्रिया में कोई भी पारदर्शिता नही हैं, मनामने तरीके से प्रीमियम की राशी किसान के खाते से कट जाती हैं l किसान नेता उधोराम वर्मा, राजू वर्मा ने कहा की प्रदेश में लगभग 8 हजार किसान छत्तीसगढ़ बीज निगम को अपनी फसल बेचते हैं परन्तु उसके बोनस के भुगतान के लिए उन्हें लगातर घुमाया जा रहा हैं l

 

किसानों का पेसा सरकार के पास हैं और किसान बाजार से कर्ज लेने के लिए मजबूर हैं l किसान कमलेश ठाकुर, शेषनारायण बघेल, घनश्याम वर्मा, भगवती साहू सहित अन्य किसानों कहा की मवेशियों के कारण किसान भारी परेशान हैं l फसलो को आवारा पशुओं के द्वारा लगातार नुकसान पहुचाया जा रहा हैं l किसानों ने आरोप लगाया की राज्य सरकार गाँव की चारागाह की जमीनों को उधोगो किसानों को आवंटित कर रही हैं जिससे पशुओं का संकट और अधिक बढ़ गया हैं l बैठक में किसानों ने सामूहिक रूप से निर्णय लिया की राज्य सरकार की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ क्षेत्र के किसानों को एकजुट कर व्यापक आन्दोलन किया जायेगा l बैठक में रामनारायण वर्मा, छत्रपाल वर्मा,मंशाराम निर्मरकर, देवव्रत नायक, भवति साहू, प्रदीप मढ़रिया,शेषनारायण बघेल, भुवन साहू, अजय वर्मा, उधोराम वर्मा, घ्यांश्यम वर्मा, आलोक शुक्ला ( छत्तीसगढ़ बचाओ आन्दोलन ) मुकेश वर्मा, धनुष साहू, हेमंत सिंह ठाकुर चन्द्र मणि ध्रुव, युधिष्ठर पटेल, जीवन वर्मा, कुंजराम वर्मा सहित बड़ी संख्या में किसान मोजूद रहे l

**

Leave a Reply

You may have missed