सुप्रीम कोर्ट का निर्देश  ,: 13 अगस्त को सुकमा मुठभेड़ की सुनवाई .: जनहित याचिका में हत्या का मुकदमा चलाने ,दुबारा पोस्टमार्टम ,जज की अगुआई में न्यायिक जांच आदी कि मांग .

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

9.09.2018/ नई दिल्ली

सुप्रीम कोर्ट में स्वीकार की गई जनहित याचिका में कोर्ट ने निर्देश दिया है कि 13 अगस्त को सुकमा जिले में हुई एनकाउंटर की सुनवाई होगी.

6 अगस्त को सुकमा जिले में 15 आदिवासियों को पुलिस ने नक्सल के नाम पे मार दिया. इस हादसे के ऊपर एक जनहित याचिका प्रस्तुत की गई थी ,जिइस्की सुनवाई चीफ जस्टिस बेंच ने की और 13 अगस्त को सुनवाई रखी.

CLC (T) GS N ने याचिका में निवेदन करते हुए की आईपी सी 302 लगाया जाये पैरा मिलिट्री जवानों के ऊपर और न्यायिक जाँच हाई कोर्ट के न्यायाधीश के निगरानी में , तथा मृत लोगों की फिर से पोस्टमॉर्टेम की जाए. और विनती यह कि गयी थी कि सैनिकों कख प्रमोशन एवं सम्मानित करने से रोकख जाएऋ और सी बी आईं या एस आइ टी से जांच करवाई जाए.

याचिका कर्ता की ओर से वी राघुनाथ पैरवी कर रहे है.

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

CG Basket

Next Post

मौत का गढ़... छत्तीसगढ़ :  मैं आपको डरा नहीं रहा हूं... हकीकत यही है कि छत्तीसगढ़... मौत का गढ़ बन गया है. : राजकुमार सोनी ,पत्रिका रायपुर .

Thu Aug 9 , 2018
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.09.09.2018., रायपुर  अगर आप बस्तर में बसने की सोच रहे हैं तो आपको कभी भी फर्जी मुठभेड़ में माओवादी बताकर मारा जा सकता है। अगर माओवादी की मौत नहीं मरे तो माओवादी आपको पुलिस का मुखबिर या सीधे पुलिसवाला समझकर मौत के […]

You May Like