फिल्म ” मुल्क ” : देश के मुसलमान अपने वतन ,अपने ‘मुल्क’ के साथ इंसाफ कर रहे हैं ,पर क्या ये ‘मुल्क ‘  मुसलमानों के साथ इंसाफ कर रहा है ? : *  विक्रम सिंह चौहान .

फिल्म ” मुल्क ” : देश के मुसलमान अपने वतन ,अपने ‘मुल्क’ के साथ इंसाफ कर रहे हैं ,पर क्या ये ‘मुल्क ‘  मुसलमानों के साथ इंसाफ कर रहा है ? : *  विक्रम सिंह चौहान .

क्या ये ‘मुल्क’ मुसलमानों के साथ इंसाफ कर रहा है?

1 अगस्त 2018

मैं पहली बार किसी इंडियन डायरेक्टर की फिल्म का बेसब्री से इंतजार कर रहा हूं ,और वह  फिल्म हैं ‘मुल्क ‘. फिल्म को लेकर बहुत विवाद हुआ ,कल यह अफवाह भी फैली कि किसी कोर्ट ने इस पर रोक लगा दी हैं। पर यह फिल्म परसो रिलीज होने जा रही है। मैंने इस फिल्म की स्टोरी खंगाली ,विकिपीडिया में भी देखा और फिल्म का ट्रेलर पहले ही देख चूका हूं।

 

मैं जितना समझ पाया हूं यह उस मुस्लिम परिवार की सच्ची कहानी हैं ,जो देश के एक छोटे शहर में रहता है और उनके परिवार का एक सदस्य आतंक के कथित आरोप में धर लिए जाते हैं। परिवार पर आतंकवादी होने का आरोप लगता है पर वह परिवार अपने आत्मसम्मान के लिए लड़ता है। यह देश आतंक से धर्म को जोड़कर देखता है ,जब कोई मुस्लिम परिवार का कोई सदस्य आतंक के कथित आरोप में पकडे जाते हैं तब उसका पूरा परिवार आतंकवादी घोषित कर दिया जाता है। उसका मोहल्ला भी आतंकवादियों का मोहल्ला बन जाता है। उस शहर को भी आतंकवादियों का पनाह देने वाला शहर घोषित कर दिया जाता है ,और इंटेलिजेंस एजेंसियां तो पाकिस्तान से संपर्क भी एक रात में पता कर न्यूज़ चैनलों को बता देती है। लेकिन जब कोई हिन्दू परिवार का युवक आतंक के आरोप में पकड़ा जाता है तब यह कहा जाता है कि युवक पर आतंक का आरोप है। उसके परिवार को कोई आतंकवादी नहीं कहता वरन सहानुभूति की लहर उसके पक्ष में फैलाई जाती है।

 

मीडिया तो इसे खबर भी नहीं बनाता,लेकिन जब धर्म से वह मुस्लिम तो हो अख़बार और टीवी चैनलों के लिए यह हफ्ते भर की स्टोरी होती है। अख़बार को कश्मीर लिंक और पाकिस्तान लिंक इंटेलिजेंस से पहले ही मिल जाता है। मीडिया पुलिस ,वकील और जज की भूमिका में होता है, जब वह धर्म से मुस्लिम हो। इसके बावजूद, अगर वह मुस्लिम युवक 19 साल या 14 साल जेल में रहने के बाद बेगुनाह बरी होकर निकलता है तो यह न्यूज़ एक सिंगल कॉलम में भी नहीं होता ,वरन मीडिया तो जज के फैसले को भी मानने को तैयार नहीं होता है।

 

Image result for wasif haider

(वासिफ हैदर )

 

फिजिक्स और मैथ्स के साथ फर्स्ट क्लास ग्रैजुएट कानपुर के मोहम्मद वासिफ हैदर को  2001 में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गिरफ्तार किया था हैदर पर देशद्रोह के तीन, 11 धमाके, एडीएम का मर्डर और 65 किलो आरडीएक्‍स की बरामदी के आरोप थे। पर पुलिस इनमें से कोई आरोप साबित नहीं कर पाया। वे निर्दोष साबित हुए और 2009 में अपने घर पहुंचे। 9 साल शायद इस ‘मुल्क ‘ का क़र्ज़ था उन पर जो चुका दिया जेल में रहकर। सबसे भयावह यह था कि इस दौरान उनकी बेटी की अपहरण की कोशिश भी हुई। दैनिक जागरण अब तक उन्हें आतंकवादी लिखता रहता है और उसके तार सबसे जोड़ते रहता है। इसलिए वे फिर सुप्रीम कोर्ट गए और दैनिक जागरण समूह के खिलाफ मानहानि का केस दायर किया। 

 

(फारुख अहमद खान,चित्र बीबीसी से  )

 

ऐसी ही कहानी अनंतनाग कस्बे में रहने वाले फारुक़ अहमद ख़ान साहब की है। खान साहब को दिल्ली लाजपत नगर ,जयपुर और गुजरात में हुए बम धमाकों के सिलसिले में 19 साल तक जेल में रखा गया। उन्हें स्पेशल टास्क फोर्स ने 23 मई 1996 को उनके घर से गिरफ़्तार किया था। फारुक़ अहमद पेशे से इंजीनियर हैं और पब्लिक हेल्थ इंजीनियरिंग महकमे में जूनियर इंजीनियर के ओहदे पर काम करते थे। गिरफ़्तारी के वक़्त फारुक़ की उम्र 30 वर्ष थी। 19 साल बाद 2014 अदालत ने फारुक को उन पर लगाए गए सभी आरोपों से बरी कर दिया । जिस दिन फारुक़ के अब्बा ने बेटे की जेल की तस्वीर देखी थी तो उन्हें दिल का दौरा पड़ा और उनकी मौत हो गई। देश की न्यायपालिका ने इन्हें पिता के जनाजे में जाने के लिए के लिए भी इजाज़त नहीं दी थी। फारुक़ अहमद की दो बेटियां हैं। जिस वक़्त उन्हें गिरफ़्तार किया गया था, उनकी बड़ी बेटी पांच साल की थी और छोटी तीन साल की। शायद फारूख साहब पर भी इस ‘मुल्क ‘ का क़र्ज़ था जो उन्होंने 19 साल जेल में रहने के बाद चुका दिए। 

(गुलज़ार अहमद वानी )

कश्मीरी गुलज़ार अहमद वानी भी कुछ अलग नहीं हैं। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में अरबी में पीएचडी कर रहे गुलज़ार अहमद वानी को सन 2000 में साबरमती एक्सप्रेस ट्रेन में धमाके करने के इल्ज़ाम में दिल्ली के आज़ादपुर इलाके से गिरफ़्तार किया गया। वानी को सिमी का सदस्य बताया गया। दस दिन बाद उनकी गिरफ्तारी दिखाई गई और इस दौरान उन पर थर्ड ,फोर्थ सभी डिग्री का इस्तेमाल किया गया। इस दौरान एनडीए की सरकार थी। गुलजार अहमद एक स्कॉलर था और दो बार नेट की परीक्षा भी पास किया था। उसके सिर पर आतंकवादी का ठप्पा लग गया था और वो भी बिना किसी सबूत के। गुलजार ने जेल से ही पीएचडी करने की कोशिश की पर उसे करने नहीं दिया गया ,उन्होंने हिंदी में एमए भी करना चाहा ,नहीं करने दिया गया। क्योंकि वे आतंकवादी थे। एक ऐसा आतंकवादी जिसके खिलाफ कोई सबूत नहीं था। इसी तरह दिन ,महीने और साल बीतते गए और पूरे सत्रह साल बीत गए तब जाकर अदालत ने कहा गुलजार अहमद वानी आतंकवादी नहीं है। उनके खिलाफ कोई सबूत नहीं है।तब 26 के थे आज 44 के हैं। जब उन्हें गिरफ़्तार किया गया था, उस समय वानी शादी करने की भी सोच रहे थे। रिहाई के बाद तक वे सदमे में थे। इस ‘मुल्क ‘ की व्यवस्था ने एक जीता जागता इंसान को जिन्दा लाश बना दिया।

(मोहम्मद आमिर ,तस्वीर डीएनए से )

दिल्ली के मोहम्मद आमिर की कहानी भी भयावह है। उन्हें दिल्ली , रोहतक , सोनीपत व गाजियाबाद में दिसंबर 1996 से दिसंबर 1997 के बीच 20 बम विस्फोटों में पांच लोगों की मौत मामले में दिल्ली की सड़क से उठा लिया गया । इसे पुलिस द्वारा अपहरण भी कह सकते हैं। तब उनकी उम्र महज 18 वर्ष थी मोहम्मद आमिर खान ने 14 साल तक लंबी लड़ाई लड़ी. उनकी ये लड़ाई आसान नहीं थी.आमिर पर बम ब्लास्ट समेत 18 केस लगाए गए थे। जनवरी 2012 को कोर्ट से आमिर को बेकसूर करार देते हुए बरी कर दिया था। बेगुनाह रहने के बावजूद इस ‘मुल्क ‘ ने उसे जेल में 14 साल तक क्यों रखा इसका जवाब किसी के पास नहीं है। जेल से बाहर आने के बाद उन्होंने ‘फ्रेम्ड ऐज़ ए टेररिस्ट : माई 14 ईयर स्ट्रगल टू प्रूव माई इसेंस ‘ किताब लिखी हैं ,किताब में उन्होंने अपनी जिंदगी के स्याह पन्ने पलटे। 18 साल पहले 27 फ़रवरी 1998 को आतंकवाद के आरोप में मुझे ‘किडनैप’ किया गया। सात दिनों तक गैर-कानूनी तरीके से पुलिस ने मुझे हिरातस में रखा और टॉर्चर कर ब्लैंक पेपर पर साइन करा कर झूठी कहानी बना कर मुझे जेल में डाल दिया। मैं और मेरा परिवार चौदह सालों तक इस उम्मीद के साथ ट्रायल का सामने करते रहे कि एक दिन मैं बेगुनाह साबित होऊंगा। मैं बेगुनाह साबित हुआ लेकिन तब तक बहुत कुछ बदल गया था। मेरे जेल जाने के दो साल बाद मेरे अब्बु का इंतकाल हो गया। मेरी मां ने सारी ज़िम्मेदारी संभाली और 2010 में उन्हें भी ब्रेन हेमरेज हो गया जिसके बाद वे लकवे की शिकार हो गईं। इस किताब में यही सब दर्ज़ है। पिछले दिनों एनएचआरसी के आदेश के बाद इन्हें पुलिस द्वारा 5 लाख रुपया दिया गया ,पर क्या रूपए से गुजरा हुआ वक़्त और अब्बू वापस आ सकते हैं ? बेगुनाह युवक जब घर लौटते हैं तब तक उनकी दुनिया उजड़ चुकी होती है और समाज उन्हें शक की निगाह से देखता है, जबकि वही पुलिसवाला कभी पदोन्नति तो कभी बहादुरी का मैडल अपने सीने पर लगाए फूला नहीं समाता. लेकिन उन बेगुनाहों की जेल की सलाखों के पीछे गुजरी जिंदगी को कोई लौटा नहीं सकता.

 

पेशे से डॉक्टर महाराष्ट्र के 35 वर्षीय रईस अहमद को मालेगांव मस्जिद धमाके में 2006 में एटीएस ने गिरफ्तार किया. साथ में शहर के अन्य आठ लोगों को साजिश रचने के मामले में गिरफ्तार किया गया. लेकिन जब एनआइए ने इन लोगों की रिहाई का विरोध नहीं करने का फैसला किया तो पांच साल बाद मकोका अदालत ने छोड़ दिया. लेकिन जब 16 नवंबर, 2011 को वे रिहा हुए तो उन्हें मालूम पड़ा कि उन लोगों ने क्या खो दिया है. मतदाता सूची से उनके नाम काट दिए गए थे, परिवार को मानसिक यातनाओं से गुजरना पड़ा. परिवार में कोई रोजगार नहीं था. यूपी के रामपुर के रहने वाले 35 वर्षीय जावेद अहमद को बेगुनाह साबित होते तक 11 साल जेल में बिताना पड़ा। कुछ लोग तो ऐसे हैं जिनके बारे में अख़बारों और टीवी चैनलों में खबर भी नहीं आई और कई साल बेगुनाह होने के बावजूद जेल में रहें। 

 

बिजनौर के 32 वर्षीय नासिर हुसैन को 22 धमाकों का मास्टरमाइंड बताया गया लेकिन 14 साल के बाद वह निर्दोष साबित हुआ. युवा मकबूल शाह को अपनी जिंदगी के 14 साल तिहाड़ जेल में बिताने पड़े. उस पर दिल्ली के लाजपत नगर धमाके का आरोप था लेकिन दिल्ली हाइकोर्ट ने उसे बरी कर दिया. इसी तरह अब्दुल मजीद भट जो पहले श्रीनगर में आतंकियों के आत्मसमर्पण कराने में आर्मी की मदद करते थे, लेकिन किसी बात पर आर्मी इंटेलिजेंस में तैनात मेजर शर्मा से अनबन हो गई, उसके बाद मजीद पर मानो आफत आ पड़ी. श्रीनगर में उसे पकड़वाने में नाकाम शर्मा ने दिल्ली पुलिस की मदद ली. दिल्ली पुलिस की टीम ने मजीद को श्रीनगर से उठाया, लेकिन उसे दिल्ली से गिरफ्तार बताया. लेकिन मजीद ने आरटीआइ के जरिए गाडिय़ों की लॉग बुक आदि मंगाई, जिससे पुलिस की थ्योरी गलत साबित हुई.श्रीनगर के मकबूल शाह को भी दिल्ली के 1996 के लाजपत नगर धमाके में पुलिस ने पकड़ा. मगर आरोप साबित न होने के बाद दिल्ली हाइकोर्ट ने मकबूल को बाइज्जत बरी कर दिया ,पर सिर्फ 14 साल बाद! 

 

एक डॉक्टर साहब फ़ारसी हैं । मुस्लिमों को आतंकवादी साबित करने के जल्दबाजी में सरकार ने इन्हें भी आतंकवादी बता 5 साल के लिए जेल में डाल दिया था। फारसी के बारे में बात करना इसलिए अहम है क्योंकि उन पर आतंकी बम ब्लास्ट की साजिश का आरोप लगा था और 5  साल पहले तक वह जेल में थे। उनको 8 सितंबर, 2006 में मालेगांव के मुशवरत चौक पर स्थित हमिदिया मस्जिद के पास हुए बम ब्लास्ट के सिलसिले में जेल भेजा गया था। मालेगांव बम ब्लास्ट के आरोप में 9 मुस्लिम युवकों को गिरफ्तार किया गया था। डॉ. फारसी भी इनमें से एक थे। बाद में एनआईए की जांच में पता चला कि ब्लास्ट तो दरअसल एक हिंदू चरमपंथी संगठन ने करवाया था। खुलासे के बाद डॉ. फारसी को जमानत पर रिहा कर दिया गया।जेल से बाहर आने के बाद डॉ. फारसी को जॉब मिलना मुश्किल हो गया था। जेल से बाहर आने के बाद उन्होंने मस्जिद में नमाजें आयोजित कीं, यहां तक कि भेड़ें भी चराईं। सवाल फिर वहीँ पर लौट आता है कि क्या वाकई हम इनके साथ न्याय कर पाये है। शायद नहीं! 

 

यूपी के  रामपुर निवासी जावेद अहमद के साथ जो हुआ ,उसकी कल्पना करना भी मुश्किल है। अहमद को पाकिस्तान की एक लड़की मोबीना से प्यार हो गया। दोनों खत लिखते थे। नाम के पहले अक्षर को गोपनीयता के लिए कोड बना रखा था। पर पुलिस को इसमें आतंकी साजिश नज़र आ गई और जे और एम बनाकर जावेद को आतंकी बताया. जावेद सिर्फ इस कोड की वजह से 11 साल जेल में बिताए। 

 

पिछले वर्ष दिल्ली कि एक अदालत ने इरशाद अली और उनके साथी मौरिफ कमर को बेगुनाह करार दिया।11 साल पहले 9 दिसंबर 2006 को दिल्ली पुलिस ने उन्हें आतंकवाद के इल्जाम में गिरफ्तार किया था। बताया गया ये दोनों प्रतिबंधित आतंकी संगठन अल-बदर के सदस्य हैं। पुलिस ने उस वक्त मीडिया को दिखाया कि गिरफ्तारी के वक्त उनके पास से पिस्तौल, गोलियां व डेटोनेटर बरामद हुए हैं। लेकिन पुलिस एक भी साक्ष्य नहीं ला पाया ,क्योंकि साक्ष्य तो था ही नहीं। यह एक मनगढंत कहानी रची गई थी। अदालत ने उन्हें बेइज्जत बरी किया। लेकिन इस बेगुनाही की अपनी कीमत है जो इन 10 सालों में उनकों चुकानी पड़ी। इरशाद अली आज 42  साल के हैं जब उन्हें गिरफ्तार किया गया तो उनकी उम्र 29 साल थी। खुद को बेगुनाह साबित करने की अदालती लड़ाई में उन्होंने चार साल 3 महीना जेल में गुज़ारे। इस दौरान अपनी इकलौती बेटी और मां बाप को खो दिया। अपनी जिंदगी की भारी जमा पूंजी अदालती कार्यवाही में खपा दी। आखिरकार उन्हें इंसाफ मिला। लेकिन सच बताइये क्या इसे आप इंसाफ कहेंगे? 

 

  • आखिर में मेरा सवाल आपसे हैं  कि देश के मुसलमान अपने वतन ,अपने ‘मुल्क’ के साथ इंसाफ कर रहे हैं ,पर क्या ये ‘मुल्क ‘  मुसलमानों के साथ इंसाफ कर रहा है

CG Basket

Related Posts

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account