रसूखदारों के सामने पुलिस बौनी…: एसईसीएल और एसीबी की गुंडागर्दी चरम पर, जबरन परेशान कर आदिवासी को’ सहारा बनी छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना : आदिवासियों को प्रताड़ित करने पर उतारू भूमाफिया व सफेदपोश लुटेरे : ज़ावेद अख्तर

 

सलाम छत्तीसगढ़ 

कोरबा (09 जून 2018)

कहते हैं कि जिसके लिए कोई नहीं बोलता और ना ही साथ खड़ा होता’ तब ही कोई ऐसा कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा होने वाला जरूर आ जाता है, जो पीड़ितों के लिए सहारा बन जाता है। ऐसा ही एक मामला छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना कोरबा इकाई से प्राप्त हुई है, जिसकी पुष्टि करने पर पता चला घटना पूरी तरह वास्तविक व सत्य है।

आदिवासियों को प्रताड़ित करने पर उतारू भूमाफिया व सफेदपोश लुटेरे .

कोरबा दीपका एसईसीएल आदिवासी क्षेत्र म निवासरत अड़बड़ सिंह कंवर उम्र 85 वर्ष के जमीन खसरा क्रमांक 280/5 रकबा 0.166 हेक्टेयर, 323/4 रकबा 0.182 हे. क्र. 446+447/2 रकबा 0.032+0.040 हे, 445/3 रकबा 0.202 हे. अउ 102 रकबा 0.30 एकड़ म एसीबी (आर्यन कॉल बेनिफिकेशन) कंपनी दीपका ह जबरन कब्जा कर अपन कोलवासरी म जाए बर रद्दा बनाये हे अउ खेत म अपन कोलवासरी के अपशिष्ट पदार्थ ल उक्त भूमि म फेंकत हे, जेखर से भूमि ह कृषि विहीन होगे हे, अउ जिन्हा पाथे वहाँ बाय पास रोड बना के अपन भारी वाहन चलात हे, जेखर से प्रदूषण काफ़ी ज्यादा फैलत हे, जेखर शिकायत अड़बड़ सिंह कंवर ह जिला प्रशासन अउ पुलिस विभाग म करे रहिस फेर कोई सुनवाई नई होइस.

 

बाद में कोर्ट म परिवाद लगाए के बाद कोर्ट के आदेश से एसीबी के कर्मचारि मन के खिलाफ ‘अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति अत्याचार अधिनियम’ के तहत अजाक थाना कोरबा म दिनांक 01/07/2017 के आरोपी यशपाल सिंह, गोवर्धन मल्लिक एवं रविश चौधरी मन के ख़िलाफ़ 426, 447, 506ब, 34 अउ एससी एसटी एक्ट 3(1)(4), 3(1)(5), 3(1)(10) के मामला म एफआईआर दर्ज होइस फेर आज दिनांक 08/06/2018 तक वोमन के गिरफ्तारी नई होये हे।

 

एक तो अब्बड़ मुश्किल म एफआईआर दर्ज होइस अउ आज येमन ल न्याय मिले म दर दर के ठोकर खाना पड़त हे बिचारा अड़बड़ सिंह के हमेशा तबीयत खराब रहिथे अउ चल फिरे नई सके हमेशा जान के ख़तरा बने हे, तेखर सेती वोखर नतनिंन कल्पना ठाकुर जाति आदिवासी छत्तीसगढ़िया ह लड़ाई ल लड़त हे फेर एखर शिकायत डीजीपी, आईजी, एसपी कोरबा, अजाक कोरबा तक शिकायत कर कर के थक गे हे।

 

थक हारके छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना जिला इकाई कोरबा से अपन न्याय बर मदद मांगत हे अउ हमन जम्मोझन ल वादा करे हन के हमन सब ल न्याय दिलवाबो।
मैं जिला प्रशासन अउ पुलिस प्रसाशन ल कहत हव के जल्द ही हमर छत्तीसगढिया आदिवासी ल न्याय दिलवावय अउ आरोपी के तत्काल गिरफ़तारी होवय, ताकि पीड़ित ल जल्दी न्याय मिल सके, अगर 7 दिन के भीतर आरोपी ल गिरफ्तार नै करहि त मजबूरन हमर न्याय बर जमीन म उतरे ब लागहि।

**

ब्लॉग पर : https://salaam36garh.blogspot.com/2018/06/blog-post_47.html?m=1

फेसबुक पर : https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=180149412662275&id=155748565102360

Leave a Reply