पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग को लेकर प्रदेश भर से राजधानी रायपुर पहुचे पत्रकारों ने मोतीबाग में धरना दिया और राष्ट्रपति के नाम प्रति राज्यपाल ज्ञापन सौंपा .

पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग को लेकर प्रदेश भर से राजधानी रायपुर पहुचे पत्रकारों ने मोतीबाग में धरना दिया और राष्ट्रपति के नाम प्रति राज्यपाल ज्ञापन सौंपा .

पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग को लेकर प्रदेश भर से राजधानी रायपुर पहुचे पत्रकारों ने मोतीबाग में धरना दिया और राष्ट्रपति के नाम प्रति राज्यपाल ज्ञापन सौंपा .

15.05.2018

रायपुर।पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग को लेकर प्रदेश भर से राजधानी रायपुर पहुचे पत्रकारों ने मोतीबाग में धरना दिया और राष्ट्रपति के नाम प्रति राज्यपाल ज्ञापन सौंपा जिसे एडीएम श्रीवास्तव ने धरनास्थल पर पहुचकर लिया।
धरना में शामिल होने के लिए प्रदेश के पांचों संभाग से पत्रकार आए थे।

सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे तक आयोजित धरने को वरिष्ठ पत्रकार गोपाल वोरा के देहांत की वजह से जल्द समापन कर दिया गया धरना के पहले उपस्थित जनसमूह ने मृतात्मा की श्रद्धांजलि देने के लिए दो मिनट का मौन रखा।

धरना स्थल पहुचकर समर्थन देने वालो में विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों के साथ विभिन्न सामाजिक,राजनीतिक लोग शामिल थे जिसमें छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी, वित्त आयोग के पूर्व अध्यक्ष रहे वीरेंद्र पांडेय, आम आदमी पार्टी के प्रदेश संयोजक संकेत ठाकुर, समाजसेविका ममता शर्मा, आरटीआई एक्टिविस्ट कुणाल शुक्ला थे सभी ने पत्रकारों के अधिकार पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग का समर्थन किया और चुनौतीपूर्ण पत्रकारिता के लिए आज के माहौल में अतिआवश्यक बताया।

धरना में विभिन्न पत्रकार संगठनों के पदाधिकारियों में प्रमुख रूप से गोविंद शर्मा प्रदेश अध्यक्ष अभा पत्रकार सुरक्षा समिति, छग सक्रिय पत्रकार संघ से राज गोस्वामी, दक्षिण बस्तर पत्रकार संघ के अध्यक्ष बप्पी राय, जर्नलिस्ट यूनियन छत्तीसगढ़ से शंकर पांडेय, छग पत्रकार कल्याण संघ से हरजीत सिंह पप्पू के अलावा रायपुर प्रेस क्लब के अध्यक्ष कृष्ण कुमार शर्मा अपने साथी पदाधिकारियों के साथ पत्रकार सुरक्षा कानून के लिए आयोजित आंदोलन में शामिल हुए। इनके अतिरिक्त विरष्ठ पत्रकारों में कमल शुक्ला, राजकुमार सोनी, संदीप पौराणिक, शुभ्रांशु चौधरी, रुचिर गर्ग भी धरना स्थल पहुचे थे।

धरना में शामिल सभी पत्रकारों ने पत्रकार सुरक्षा कानून को छत्तीसगढ़ में जल्द से जल्द लागू किए जाने की मांग की साथ ही पत्रकारों पर दर्ज प्रकरणों में जल्द न्याय संगत फैसला कर दर्ज फर्जी प्रकरणों को वापिस लेने की मांग की है साथ ही कमल शुक्ला पर राजद्रोह के मामले को वापस लेकर पत्रकारों पर द्वेष पूर्ण पुलिस कार्रवाई पर अंकुश लगाने पत्रकारों पर एफआईआर के पूर्व बड़े अधिकारियों से जांच और समन्वय समिति की अनुशंसा पश्चात निर्णय लेने की मांग की है ताकि बेवजह पत्रकारों को परेशान प्रताड़ित करने के फर्जी मामलों पर अंकुश लगे जिससे पत्रकार निर्भीकता से समाचार संकलन और प्रकाशन,प्रसारण कर सके।धरना में उपस्थित पत्रकारों की संख्या और आक्रोश को देखते हुए पत्रकारों की मांगों पर शासन को शीघ्र सकारात्मक निर्णय लेना उचित प्रतीत होता है क्योंकि शामिल सभी पत्रकारों ने पत्रकार सुरक्षा कानून को अनिवार्य बताया साथ ही जल्द से जल्द लागू नही किये जाने की दशा में आंदोलन के विस्तार की बात कही है उल्लेखनीय है कि यह पहला मौका है जिसमें प्रदेश भर से विभिन्न संगठनों और स्वतंत्र पत्रकारिता करने वाले पत्रकार सर्वाधिक संख्या में एक मंच में साथ आकर अपनी मांग आंदोलन के माध्यम से शासन के समक्ष रख जल्द से जल्द पत्रकार सुरक्षा कानून लागू करने की मांग की है और अब देखना होगा कि सरकार पत्रकारों के मांगो पर गम्भीरतापूर्वक सार्थक निर्णय लेती है अथवा ढुलमुल रवैया अपनाती है।

*****

CG Basket

Related Posts

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account