#FightAgainstRape बिलासपुर , भिलाई ,कांकेर : यह देश बलात्कारियों का नहीं है :  बलात्कार की संस्कृति के खिलाफ गुस्से में सड़कों पर उतरीं महिलायें , मशालें और नारों के साथ प्रभावशाली प्रदर्शन . बलात्कारियों ,उनके समर्थकों और गैरजिम्मेदाराना वक्तव्य देने वालों के खिलाफ हो तुरन्त कड़ी कार्यवाही .

#FightAgainstRape बिलासपुर , भिलाई ,कांकेर : यह देश बलात्कारियों का नहीं है :  बलात्कार की संस्कृति के खिलाफ गुस्से में सड़कों पर उतरीं महिलायें , मशालें और नारों के साथ प्रभावशाली प्रदर्शन . बलात्कारियों ,उनके समर्थकों और गैरजिम्मेदाराना वक्तव्य देने वालों के खिलाफ हो तुरन्त कड़ी कार्यवाही .

बिलासपुर / 14 अप्रेल 2018

 

**
जम्मू के कठुआ में एक बच्ची की बलात्कार के बाद हत्या और बलात्कार के आरोपियों के समर्थन में जम्मू बंद ने पूरे देश को झकझोर दिया है. इसी तरह उत्तर प्रदेश के उन्नाव में एक बलात्कार पीड़िता की शिकायत पर कार्रवाई करने के बजाए उसके पिता की गिरफ्तारी और फिर उसी दौरान उनकी मौत और आरोपी विधायक की गिरफ्तारी में टालमटोल से भी देश की जनमानस गुस्से में है. ऐसे हो औरैया मे .बेटी से छेडछाड की रिपोर्ट कराने गये पिता को अगवा करकरे उनकी हत्या. कर दी गई .छतीसगढ के कांकेर जिले में कोयलीबेड़ा मे पुलिस के थानेदार पर आरोप है कि उसने लगातार धोंस देकर बलात्कार किया और उसके पिता को मारापीटा ,अभी तक कोई कार्यवाही नही हो रही .लगभग सभी प्रकरणों मे पुलिस के साथ भाजपा के नेता शामिल थे .

ये घटनाएं ये बता रही हैं कि बलात्कार की संस्कृति अब भी जिंदा है और देश की हर महिला और बच्चियां असुरक्षित हैं.
इसके खिलाफ देश के कई हिस्सों में महिलाओं ने सोशल मीडिया के जरिए खुद को एकजुट किया, #FightAgainstRape का हैशटैग बनाया और उन्होंने तय किया कि वे इसके खिलाफ एक गैर-राजनीतिक मुहिम चलाएंगी.

 

बिलासपुर

भारी वर्षा मे निकला बेटी चौक से गोलबाजार तक जुलूस 

इसी गुस्सा को प्रगट करने के लिये पूरे देश के साथ बिलासपुर में बेटी चौक  पर  बडी संख्या मे महिलायें और पुरूष एकत्रित हुये , आयोजन के पहले से बारिश शुरू हो गई लेकिन भारी बरसते पानी मे भी अपने गुस्से का इजहार किया और मशाल तो जल नही पाई़ लेकर , विभिन्न नारे लिखे पोस्टर , और गुस्से में भरे नारे के साथ मारी गई बच्चीयों को श्रद्धांजलि दिया . विभिन्न जन संघठनो के साथ आल इंडिया लायर्स यूनिंयन से जुडे अधिवक्ता गण ,छतीसगढ बचाओ आंदोलन ,पीयूसीएल छतीसगढ ,रेला कलेक्टिव के कलाकार आदि भी शामिल थे .

 

भिलाई

कश्मीर से उन्नाव तक का प्रतिरोध मार्च के तहत आज भिलाई जामुल के नियोगी चौक पर सैकड़ो के तादाद में मजदूर इकट्ठा होकर गैंग रेप सामील आरोपियों को संरछन देने वालो के खिलाफ जमकर नारेबाजी किया गया, वही वक्ताओं ने कहा कि देश मे गुंडा राज का बोलबाला है जो उन्नाव के पिडीता के पिता को पिट पिट कर मार डाला वही कठुआ में पिडीता को मंदिर में रेफ किये इस तरह हरकत वही कर सकता है जिनको राजनीतिक संरछन मिला होता है,वर्तमान में देश के अंदर अल्प संख्यकों, दलितों, आदिवासियों, के ऊपर बर्बर दमन जारी है ,सरकार के कोई भी गलत कामो को बोलता है उसे देशद्रोही और नक्शल वाद का ठप्पा लगा दिया जाता है ,बेटियों को कहि भी सुरक्षित रखना मुशकील हो गया है सरकार अपने धार्मिक कट्टर, जातिवाद, के आग में आवाम को झोंक रहा है


कश्मीर से उन्नाव तक प्रतिरोध मार्च बड़ा आंदोलन बन सकता है छत्तीसगढ़ मुक्ति मोर्चा मजदूर कार्यकर्ता समिति, प्रगतिशील सीमेन्ट श्रमिक संघ, जन आधारित पावर प्लांट मजदूर यूनियन इसी अभियान के साथी बडी़ संख्या में उपस्थित थे ।

कांकेर

आदिवासी संघठनो ने गांधी चौक से रैली निकाली और श्रधंजलि आर्पित की .

 

इस आयोजन को पूरी तरह से अराजनीतिक रखा गया है क्योंकि ऐसी घटनाएं कहीं भी हो सकती हैं और इसे रोकने में पुलिस असफल साबित हुई है.

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो के 2016 तक के जारी आंकड़ों के मुताबिक भारत में हर दिन 54 बच्चियों के साथ बलात्कार के मामले दर्ज होते हैं. दुख की बात यह है कि यह सब निर्भया एक्ट के बावजूद हो रहा है. 2015 के मुकाबले बच्चियों से बलात्कार के मामले में 2016 में 82 परसेंट की बढ़ोतरी हुई है.्

सबसे चिंताजनक बात है कि बलात्कारियों को समर्थन भी मिल रहा है. जम्मू में बच्ची के बलात्कार के आरोपियों के समर्थन में लोगों के एक हिस्से का सड़क पर उतरना और लडकी की तलफ से केस लड रहीं वकील साहिबा पर हमला भी आज हुआ , यह दर्शाता है कि समाज बुरी तरह से सड़ रहा है और न्याय की भावना में भारी गिरावट आई है.
मौजूदा कार्यक्रम इस नैतिक गिरावट के खिलाफ है.

★★

 

CG Basket

Related Posts

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account