जशपुरनगर : टोनही के नाम पर 70 साल की महिला को प्रताड़ित करने की घटना , रिपोर्ट कराई पुलिस में .जमीन हडपने का आरोप .

 

6.04.2018
Asr _ 24 news { asr24.in/?p=1492}

जशपुरनगर। जषपुर जिले में टोनही प्रताड़ना का मामला रूकने का नाम नहीं ले रहा है। जषपुर पुलिस कई मामलो में कार्रवाई भी कर चुकी है लेकिन अंधविष्वास की जड़े इतनी मजबूत हैं कि लोग अभी भी इससे उबर नहीं पा रहे है। आदिवासी बाहुल्य जिले में टोनही के नाम पर पहले भी कई हत्यायें हो चुकी हैं। टोनही प्रताड़ना एवं अधविष्वास से बाहर निकालने के लिये सरकार के द्वारा अंधश्रद्वा निर्मूलन समिति का भी गठन किया गया है लेकिन जषपुर जिले में इसका भी कोई असर दिखाई नहीं दे रहा है।

गुरूवार को बगीचा थाना क्षेत्र के ग्राम करमघाट की रहने वाली 75 वर्षीय दोनो हाथो से दिव्यंाग वृ़द्व महिला अपने पुत्र व पोते के साथ पुलिस अधीक्षक प्रषांत सिंह ठाकुर से अपने भतीजे रवि यादव के खिलाफ षिकायत आवेदन लेकर पहुंची थी। 75 वर्षीय वृद्व महिला ने बताया कि वह कई वर्षो से करमघाट के दर्षनवा ढोढी नामक स्थान पर अपने परिवार के साथ रहती है। उसके पति की मृत्यु हो चुकी है। वृद्वा ने बताया कि जिस जगह पर वह रहती है उसके कुछ दूरी पर उसका 10 डिस्मील का एक छोटा सा प्लाट है। उस प्लाट को उसके भतीजे रवि यादव के द्वारा कब्जा कर लिया गया है। जिस जगह पर अभी वह अपने पुत्र, पोते एवं बहु के साथ रहती है उस जगह को भी रवि यादव के द्वारा छोड़ने के लिये दबाव बनाया जा रहा है। वृद्व महिला ने बताया कि उसे उसका भतीजा रवि यादव टोनही कहकर प्रताड़ित किया करता है।

दो दिन पहले मंगलवार को रवि यादव अपने अन्य साथियों के साथ वृद्व महिला के घर पहुंचकर उसके पुत्र रामलगन यादव के साथ भी मार-पीट किये है। वृद्व महिला का पुत्र रामलगन ने बताया कि मंगलवार को रवि यादव के द्वारा पत्थर से वार कर उसे चोट पहुंचाया गया है। दुबारा जब रवि यादव पत्थर से उसे वार कर रहा था इस दौरान उसे चोट न लगकर दूसरे व्यक्ति को पत्थर से चोट लग गई है। उसने बताया कि जिस व्यक्ति को चोट लगी है वह व्यक्ति उसके खिलाफ थाना बगीचा में रिपोर्ट दर्ज करा दिया है जिसकी वजह से कफी डरा हुआ है।  वृद्व महिला का पुत्र रामलगन यादव ने बताया कि पुलिस अधीक्षक प्रषांत सिंह ठाकुर ने जाॅच के बाद कार्रवाई करने का भरोसा दिया है। उसने बताया कि उसके आवेदन को षिकायत प्रकोष्ठ के पास प्रेषित कर दिया गया है। षिकायत निराकरण की अवधि 30 दिन नियत किया गया है। 

***

Leave a Reply