रायपुर : क्रांतिकारी सांस्कृतिक मंच का द्वितीय राज्य सम्मेलन 25 मार्च को ’’आज के दौर में सांस्कृतिक प्रतिरोध की भूमिका’’ पर संगोष्ठी भी

रायपुर : क्रांतिकारी सांस्कृतिक मंच का द्वितीय राज्य सम्मेलन 25 मार्च को ’’आज के दौर में सांस्कृतिक प्रतिरोध की भूमिका’’ पर संगोष्ठी भी

20.03.2018 / रायपुर 

संगोष्ठी
’’आज के दौर में सांस्कृतिक प्रतिरोध की भूमिका’’
25 मार्च 2018 (रविवार), शाम 4ः00 बजे
स्थान – वृंदावन हाॅल, सिविल लाइन रायपुर

हम एक असामान्य दौरक्रांतिकारी सांस्कृतिक मंच का द्वितीय राज्य सम्मेलन 25 मार्च को
’’आज के दौर में सांस्कृतिक प्रतिरोध की भूमिका’’ पर संगोष्ठी भी में जी रहे हैंै। एक ऐसा दौर जब सामूहिक उन्माद को समाज की सामान्य अवस्था बताया जा रहा है। एक ऐसा दौर जब इंसान को एक खतरनाक मशीन में ढाला जा रहा है। एक ऐसा दौर जब संस्कृति के नाम पर सीना ठोकने वाले हमारी संवेदना और सपनों तक को बाजार में नीलाम करना चाहते हैं। एक ऐसा दौर जब देश की सबसे उंची बोली लगाने वाले सबसे विशाल तिरंगा फहराने का रेकार्ड बनाते हैं और सिनेमाघर में राष्ट्रगान की धुन पर खड़े रहने को देशभक्ति का सबसे बड़ा सबूत घोषित कर देते हैं। एक ऐसा दौर जब बढ़ी हुई फीस का विरोध करने वाले छात्र-छात्राओं पर राष्ट्रद्रोह का आरोप लगाया जाता है। एक ऐसा दौर जब हथियारों व बारूद को राष्ट्र की सुरक्षा का एकमात्र पैमाना बना दिया जाता है…. सचमुच ये खतरनाक नहीं बल्कि असामान्य दौर है।

इस असामान्य उन्माद के बीच सहज-सामान्य रह पाना आज के दौर की सबसे बड़ी चुनौती है। लेकिन सहज-सामान्य बने रहने की जरूरी शर्त है प्रतिरोध। अपनी मानवीयता और सामूहिक चेतना को हम तभी बचा सकते हैं जब हम अमानवीय और सामूहिक उन्माद का प्रतिरोध करें।

इसी परिप्रेक्ष्य में क्रांतिकारी सांस्कृतिक मंच (कसम) द्वारा 25 मार्च 2018 (रविवार) को वृंदावन हाल, सिविल लाईन, रायपुर में ’’क्रांतिकारी सांस्कृतिक मंच का द्वितीय राज्य सम्मेलन’’ तथा ’’आज के दौर में सांस्कृतिक प्रतिरोध की भूमिका’’ विषय पर संगोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है। मंच, आप सभी साथियों से कार्यक्रम में शामिल होने की अपील करता है।

**

CG Basket

Related Posts

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account