आदिवासी समाज आक्रोशित : 21 सूत्रीय मांगों पर अभी तक कोई कार्यवाही नहीं : गाँव गाँव मे ले जाएंगे विरोध की आवाज़

14 को सरगुजा और 21 अप्रेल को बस्तर में विरोध में बडी़ रैली .

आदिवासी को राज्य सभा में भेजने की मांग .

रायपुर 11 .03.2018

सर्व आदिवासी समाज की शनिवार को रायपुर के गोंडवाना भवन मे बैठक मे आदिवासी नेताओं ने सरकार के खिलाफ नाराजगी व्यक्त की और कहा कि एक महीने पहले हमने राज्य सरकार को 21 सूत्रीय मांग पेश की थी और कहा था की एक महीने में इन मांगों पर निर्णय कर ले नही तो हमारा समाज तीव्र आदोलन करने पर बाध्य होगा.

एक माह पूरा होने के बाद भी सरकार ने मांगों के बारे में न कोई चर्चा की और न ही किसी मांग को पूरा करने की उत्सुकता ही बताई .

बैठक में इसपर नाराजी व्यक्त की और कहा कि सरकार आदिवासियों को हल्के में नही ले ,उन्हीने घोषणा की कि 14 अप्रैल को सरगुजा में और 21 अप्रेल को बस्तर में आक्रोश रैली निकाली जायेगी फिर भी यदि सरकार मांगों के प्रति गम्भीर नहीं हुई तो अप्रेल के बाद गांव गाँव मे मीटिंग और प्रदर्शन किए जायेंगे .

बैठक मे मांग की गई कि राज्य सभा मे किसी आदिवासी को भेजा जाये ताकि वो हमारे समाज की समस्याओं को ठीक तरह रख सके .

बैठक मे पूर्व मंत्री अरविंद नेताम पूर्व सांसद सोहन पोटाई , सर्व आदिवासी समाज के अध्यक् बीपीएस नेताम ,कार्यकारी अध्यक्ष बी एस रावटे ,एन एस मंडावी ,फूल सिंह नेताम ,आनंद पकाश टोप्पो आदि उपस्थित थे.
**

Leave a Reply