छत्तीसगढ़ सरकार का बजट जुमलेबाजी पूर्ण किसान, मजदूर युवा विरोधी…छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन

छत्तीसगढ़ सरकार का बजट जुमलेबाजी पूर्ण किसान, मजदूर युवा विरोधी…छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन

10.02.2018

छत्तीसगढ़ सरकार का बजट विषमता मूलक और किसानों मजदूरों युवाओं के विरुद्ध एक चुनावी जुमलेबाजी है,इस बजट में स्मार्ट सिटी के तीन शहरों रायपुर नया रायपुर और बिलासपुर के लिए 418 करोड़ , फिर नया रायपुर जो एक दानव की तरह जनता के धन को डकार रहा उसके लिए अकेले 431 करोड़ रुपए का आबंटन जिस एकांगी अमीरपरस्त दृष्टिकोण प्रदर्शित करता है वही दृष्टिकोण पूरे प्रदेश के लिए भी है, कृषि और किसानों की मूल समस्याओं की घोर उपेक्षा की गई है लेकिन जहां भी कारपोरेट को फायदा दिखा वहां कृषि के नाम पर राशि आबंटित कर किसानों को भ्रमित करने का प्रयास किया है, वास्तव में पूरे किसानों को बोनस देने के लिए आबंटित 145 करोड़ रुपए की राशि अपर्याप्त है और दो साल का बोनस नहीं देना किसानों से धोखाधड़ी है,लागत मूल्य का डेढ़ गुना देने की सुगबुगाहट तक नहीं, और न ही संविदा कर्मियों को नियमित करने, शिक्षा कर्मियों के संविलियन की बात कही गई है, युवाओं की पूर्ण उपेक्षा करते हुए नए रोजगार श्रृजन की चर्चा तक नहीं है,सारा आबंटन ठेकेदारों बिचौलियों के लिए है आम किसानों मजदूरों बेरोजगारों को ढेंगा दिखा दिया है.

 

रमन सिंह ने,एक ओर जहां उद्यमियों के लिए ब्याज अनुदान,लागत पूंजी अनुदान और स्टार्टअप के मद में कुल 148 करोड़ रूपए रखे गए हैं वहीं लाखों किसानों की राहत के लिए कोई प्रतिबद्धता नहीं दिखाया गया है, पूरे प्रदेश में अलग अलग जगहों में मनुष्य जानवर टकराव पर समाज शास्त्रियों राजनीतिज्ञों पर्यावरण विदों और कृषि विशेषज्ञों द्वारा अध्ययन करवा पीड़ित किसानों को बंदर हांथी और जंगली सुअरों के आतंक से छुटकारा दिलाने के प्रयास की जगह महज 5.2 करोड़ रुपए से 20 चलित हांथी दल का गठन महज चंद कर्मियों और हाथियों के पालने में खर्च होगा, पीड़ित लोगों को कोई फायदा नहीं होगा और न वे अपने को सुरक्षित महसूस करेंगे,बजट में जनता को दिए सरकारी अनुदानों उज्वला ओडीएफ प्रधानमंत्री आवास आदि को जोड़कर जीडीपी बढ़ाई गई है आम आदमी किसानों की वास्तविक आमदनी कम हुई है और बेरोजगारी बढ़ी है फिर औसत विकास आंकड़े यही सिद्ध करते हैं कि चंद लोग साल भर में अरबों रुपए कमाए और उसका औसत मुफलिस जनता पर थोप दिया, चुनावी वर्ष है इसलिए भाषा से भ्रमित कर वोट बटोरने की कोशिश है समाज के मेहनतकशों को सिर्फ छला गया है इस बजट में

**
नंदकुमार कश्यप
आलोक शुक्ला

CG Basket

Related Posts

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account