जल जंगल जमीन से वनवासियो को खदेड़ना बंद करो जल जंगल जमीन पर आदिवसियों को अधिकार के लिये बारनवापारा में 18 वां दिन धरने का.

जल जंगल जमीन से वनवासियो को खदेड़ना बंद करो जल जंगल जमीन पर आदिवसियों को अधिकार के लिये बारनवापारा में 18 वां दिन धरने का.

9/2/2018

बारनवापारा 

जल जंगल जमीन से वनवासियो को खदेड़ना बंद करो जल जंगल जमीन पर आदिवसियों को अधिकार दो जन संघर्ष समिति बार क्षेत्र व दलित आदिवासी मच के बेनर तले 18 दिन से अनिश्चित कालीन धरना में आज भी लोग डेट हुए है रेंजर संजय रौतिया की गिरफ्तारी के मांग को लेकर है कि कानून सबके लिए है लेकिन आज भी संजय रौतिया कानून के गिरफ्त से बाहर है सरकारी अफसर और सरकार उनको पनाह दे रही है .

कल दिनांक 18 फरवरी को आदिवासी भारत महासभा(ABM) रायपुर द्वारा बार अभ्यारण के संघर्ष के साथियो को समर्थन देने कामरेड सौर जी कामरेड नेताम जी कामरेड मीदुल जी धरना स्थल पहुच कर समर्थन देते हुए कहा कि आदिवासियों के जल जंगल जमीन और उनके अधिकारों से बेदखल करने में सहायक सभी निरंकुश कानून को खारिज करना होगा अफसर साह पुलिस ठेकेदार जंगल माफिया भूमि माफिया राजनेता गठजोड़ होकर आदिवासी वनवासियो के खिलाफ किये जा रही साजिश को हमे परास्त करना है.

सरकार द्वारा स्वच्छता अभियान को लेकर रोजाना टीवी में सरकार अमिताभ बच्चन के द्वारा प्रचार प्रसार करा रही है लेकिन वन अधिकार मान्यता कानून जो वन वासियो के हितों के लिए बनाई गई है देश का पहला ऐसा कानून है जिसमे सरकार ने स्वीकार किया की वनवासियो के साथ ऐतिहासिक अन्याय हुआ है उस अन्याय को सुधरने के लिए अनुसूचित जनजाती और अन्य परम्परागत वन निवासी (वन अधिकारो की मान्यता) अधिनियम 2006 तथा अनुसूचित जनजाति और अन्य परम्परागत वन निवासी (वन अधिकारों की मान्यता ) संसोधित नियम 2012_2013 का सरकार द्वारा इस कानून का प्रचार प्रसार नही किया गया और 11वर्ष बीत जाने पर वनाधिकार कानून का छत्तीसगढ़ में सही क्रियान्वयन नही किया गया इस कानून का मजाक उड़ाया जा रहा है ,आगे उन्होंने कहा कि आदिवासी जनता के पहचान संस्कृति भाष जैसे खास पहलुओ पर जोर देते हुए कहा कि वनवासियो के विस्थापन को तत्काल रोक लगाय जाए सर्वोच्च न्यायलय का समता आदेश लागू करो बार अभ्यारण के साथियो का लड़ाई में आदिवासी भारत माहसभा जो 8 राज्यो में बना हुआ है छत्तीसगड़ मध्य्प्रदेश झारखंड राजस्थान उडीसा बिहार तमिलनायडू पंजाब पूर्ण रूप आप लोगो का संघर्ष को समर्थन देती है और अपने अपने राज्य में इस मुददे को उठाएगी छत्तीसगढ़ में 2 फरवरी 1018 को बार अभ्यारण के मुददे को लेकर आदिवासी भारत महासभा द्वारा राज्यपाल को ज्ञापन दिया गया है .

जन संघर्ष समिति बार क्षेत्र के अध्यक्ष अमरध्वज यादव ने कहा कि आप लोगो के आने से हमारे आंदोलन को ताकत मिलता है जब तक हमे न्याय नही मिलेगा हमारा संघर्ष जारी रहेगा शांति पूर्ण लड़ाई को सरकार कब तक अनदेखा करेगी हमारे धीरज का हौशला टूट नही है बल्कि इस धरना के चलते पूरे बार अभ्यारण की जनता संगठित हो कर पूरे जोश के धरने पर डटे हुए है दलित आदिवसी मंच की आयोजिक राजीम तांडी ने भी सभा को सम्बोधित किया

  • अमरध्वज यादव
    जन संघर्ष समिति बार क्षेत्र
    देवेंद्र
    दलित आदिवसी मंच

CG Basket

Related Posts

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account