सुपेबेड़ा में जहरीले पेयजल से सैकड़ों ग्रामीणों की मौत के मामले में आम आदमी पार्टी न्यायिक जाँच की माँग को लेकर हाइकोर्ट जायेगी.

1.02.2018

रायपुर

आम आदमी पार्टी अब सुपेबेड़ा में जहरीले पेयजल से सैकड़ों ग्रामीणों की मौत के मामले में वाजिब मुआवजा की मांग को लेकर कोर्ट के द्वार खटखटाएगी ।

आम आदमी पार्टी के प्रदेश सचिव उत्तम जायसवाल ने यह जानकारी देते हुए बताया कि गरियाबंद जिले के सुपेबेड़ा गांव के निवासियों का जीना दूभर हो गया हैं उन्हें शुद्ध पेयजल की व्यवस्था करने में प्रशासन नाकाम हैं।

जायसवाल ने सन 2005 से लेकर अब तक ग्राम सुखेड़ा के 109 ग्रामीण किडनी रोग से ग्रसित होकर अपनी जान गवा चुके हैं और 235 लोगों की किडनी खराब हो चुकी है इस गंभीर घटना को लेकर प्रशासन पूर्ण रुप से उदासीन है यह किसी गहरे षड्यंत्र की ओर इशारा करता है ।
पिछले कुछ वर्षों में लगातार यंहा के निवासियों के किडनी में समस्या आने लगी और जब तक लोग ये जान पाते कि यह किस कारण से हो रहा हैं तब तक कई ग्रामीणों की मौत हो चुकी थी।
आज भी यंहा कई ग्रमीणों के किडनी फैल हो चुकी हैं कई ग्रामीण क्षतिग्रस्त हो चुकी है । ऐसे सदस्य है जिनका पूरा का पूरा परिवार उजड़ गया।

इस मामले को लेकर जब वंहा के ग्रामीणों ने जिस तथ्य से अवगत कराया वह सोचनीय था, उनका कहना हैं 10 वर्ष पहले तक ये समस्या नहीं थी समस्या तो तब आयी जब प्रशासन को इस बात की जानकारी हुई कि वंहा कीमती रत्न एलेक्जैड्राइट पाएं जाते हैं ।
उस रत्न की खुदाई करने में प्रशासन ने कई परीक्षण किए और उसी के परिणाम स्वरूप वंहा का भुजल अब हानिकारक हो गया हैं।

ये भी आरोप ग्रामीणों ने लगाया है कि प्रशासन उन्हें वंहा से खदेड़ने के उद्देश्य से ये सारा काम कर रही है ताकि वे उस कीमती रत्न एलेक्जैड्राइट का खनन प्रारम्भ कर सके ।

इस मामले को लेकर अब आम आदमी पार्टी का 5 सदस्यीय जाँच दल सुपेबेड़ा जाएगा । जिसमे कृषि वैज्ञानिक एवम प्रदेश संयोजक डॉ संकेत ठाकुर, पूर्व जज प्रभाकर ग्वाल, प्रदेश सचिव उत्तम जायसवाल और हाई कोर्ट के दो वरिष्ठ वकील शामिल होंगे ।
***

Leave a Reply