विजयशंकर पात्रे ने आप छोडने का किया ऐलान .

9.01.2018
**

दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते है कि मैं विगत वर्षों से आम आदमी पार्टी में सक्रिय सदस्य के रूप में जुड़ा रहा हूँ तथा मूँगेली विधानसभा का पर्येक्षक भी रहा हूँ।
क्यूँकि मुझे लगता था कि यही पार्टी है जो बेहतर कर सकती है और दिल्ली में बेहतर काम भी कर रही है।
निःसंदेह अरविंद केजरीवाल बेहतर इंसान और बेहतर नेता है जितना उन्हें जानता हूँ उनसे कभी व्यक्तिगत रूप से नहीं मिला।
लेकिन पार्टी को लगातार अध्ययन करने के बाद इस नतीज़े पर पहुँचा हूँ कि और यहाँ रहना उचित नहीं है।
मैं उस समाज से हूँ जिसके सत्ता पक्ष में 9 विधायक हैं जिनमे से एक मंत्री भी है।
मगर इसके बावज़ूद मेरे समाज के लोगों पर अन्याय लगातार हो रहे हैं।
सरकारी कर्मचारी हो या अधिकारी सबको प्रताणित किया जा रहा है।
हेमशंकर देशलहरा जी जो कि तिल्दा के सीएमओ है उनको 15 महीनों से झूठे आरोपों में सस्पेंड कर रखे हैं।
डीके सतनामी जी जो पूर्ण योग्यता के बावज़ूद केंद्रीय विश्वविद्यालय में जातिवाद का शिकार होते हैं और उनको नियुक्ति नहीं मिलती।
पिछले वर्ष ममता खांडेकर और सतीश नोरगे की हत्या अभी तक अन्तःमन को कचोटती है।
वर्षा डोंगरे जी जिनको संविधानिक बात करने पर सस्पेंड कर दिया गया।
प्रभाकर ग्वाल जी जिनको बर्खास्त कर दिया गया।
ऐसे बहुत सारे घटनाएँ है जिसे थोथे विकास के नाम पर नहीं दबाया जा सकता।
मेरे समाज के लोग बहुत ही भोले है किसी की भी बातों में आ जाते हैं।
मुझे आम आदमी पार्टी में अपने समाज का प्रतिनिधित्व नहीं दिखता।और मैं वहाँ रहकर अपने लोगों को धोखा नहीं दे सकता।
मेरा संघर्ष बड़ा है..
इसलिए मैं कुछ दिन पहले ही आम आदमी पार्टी छोड़ दिया हूँ।
और ये औपचरिक सूचना है।
हाला की प्रभाकर ग्वाल जी आम आदमी पार्टी में है ये उनके दृष्टिकोण पर निर्भर करता है।

✍ विजय शंकर पात्रे

Leave a Reply