भारतीय जन नाटय संघ (IPTA)छत्तीसगढ़ का पंचम राज्य सम्मेलन रायगढ़ में 23 से 25 दिसंबर के संपन्न हुआ. / विमर्श, नाट्य मंचन,संगोष्ठी ,रैली और विभिन्न आयोजन

भारतीय जन नाटय संघ (IPTA)छत्तीसगढ़ का पंचम राज्य सम्मेलन रायगढ़ में 23 से 25 दिसंबर के संपन्न हुआ। सम्मेलन में चर्चित कवि एवम साहित्यकार राजेश जोशी , पटना से प्रसिद्ध रंगकर्मी तनवीर अख्तर, रांची से शैलेन्द्र की उपस्थिति उल्लेखनीय रही।

नाट्योत्सव के दूसरे दिन इप्टा रायपुर के छत्तीसगढ़ी गम्मत शैली में दो नाटक ‘टैच बेचइया’ और ‘ब्रह्मराक्षस का शिष्य’
इस सम्मेलन की सबसे बड़ी विशेषता रही युवा साथियों की भागीदारी इस सम्मेलन में जहां 70 प्रतिशत युवा साथियों ने भाग लिया वहीं चाम्पा इकाई से 16 बाल कलाकारों की उपस्थिति ये संभावना जगाती है कि भविष्य हमारा है। सम्मेलन के हर सत्र में जिस तरह से युवा साथियों ने चर्चा में भागीदारी निभाई वह आशान्वित करती है अब हमारे वरिष्ठ साथियों पर बड़ी जिम्मेदारी आ गयी हैें।

इस सम्मेलन के आखिरी सत्र में नई कार्यकारिणी का चुनाव हुआ जिसमें अध्यक्ष पद हेतु भिलाई के साथी मनिमय मुखर्जी,महासचिव हेतु रायगढ़ के अजय आठले तथा एक तदर्थ समिति जिसमे विनोद बोहिदार,अपर्णा,सुचेता मुखर्जी,सुभाष मुदली,निसार अली,सचिन शर्मा, डॉ.अशोक शिरोडे, के एल चंद्रा, जीवनलाल यादव तथा जयप्रकाश जी का चुनाव किया गया है यह समिति शीघ्र ही बैठक कर नई कार्यकारिणी और शेष पदाधिकारियों का विधिवत चयन कर जिम्मेदारियां सौपेगी।

**संगोष्ठी ‘नाटकों में दलित विमर्श और आज का यथार्थ’ में मुख्य वक्ता दलित नाटककार राजेश कुमार रहे .

ऑडिटोरियम में इप्टा की तीसरी शाम रंग संगीत की प्रस्तुति से सजी

Bhaskar Dec 24,2017

24 वां राष्ट्रीय नाट्य समारोह में शनिवार को तीसरी शाम पटना इप्टा की टीम ने रंग संगीत का कार्यक्रम प्रस्तुत किया। कार्यक्रम में रंगकर्म के प्रसिद्ध नाटकों के संगीत और सीताराम सिंह द्वारा लिखे और संयोजित रंग संगीत की प्रस्तुति दी गई। इनमें प्रमुख रूप से मुझे कहा ले आये हो कोलंबस, एमएफ हुसैन की आत्मकथा, धरती का जादूगर के संगीत शामिल थे। इन प्रस्तुतियों को सुन दर्शकों के बीच उत्साह का माहौल बना रहा। 

नाट्य समारोह के तीसरे दिन पटना इप्टा के सीताराम सिंह को रायगढ़ का प्रतिष्ठित 9वां शरदचंद्र वैरागकर स्मृति रंगकर्म सम्मान प्रदान किया गया। इप्टा रायगढ़ के साथ ही जनवादी लेखक संघ, प्रगतिशील लेखक संघ, अग्रसेन सेवा संघ, तनया ग्रुप एवं शहर की अन्य सामाजिक संस्थाओं ने भी शाल और श्रीफल भेंट कर सीताराम का सम्मान किया। सम्मान प्राप्त करने के बाद उन्होंने लोगों को सं‍बोधित करते हुए कहा कि इस सम्मान और लोगों के प्यार से वे अभिभूत है। इससे पहले भी उन्हें 1917 में व्यथा म्यूजिकल फीचर के लिए आकाशवाणी द्वारा वार्षिक सम्मान दिया गया था। इतना ही नहीं वे 2012 में आकाशवाणी द्वारा गजल में टॉप ग्रेड से सम्मानित हो चुके हैं। पटना और बेगूसराय इप्टा के लगभग सभी नाटकों का संगीत संयोजन और निर्देशन इन्हीं के द्वारा किया जाता है। वे मैथिली फीचर फिल्म लालका पाग में भी संगीत निर्देशन किया है। 

24वां राष्ट्रीय नाट्य समारोह में पटना इप्टा की टीम ने रंग संगीत पेश करते हुए। जनगीत के साथ निकाली रैली 

दोपहर छत्तीसगढ़ इप्टा के पांचवें राज्य सम्मेलन का शुभारंभ हुआ। सदस्य जनगीत गाते हुए छत्तीसगढ़ इप्टा की विभिन्न इकाइयों से आये हुए साथियों के साथ सांस्कृतिक रैली होटल साई श्रद्धा से निकली गई। रैली गांधी पुतला, सुभाष चौक, मंदिर चौक, शहीद चौक से होते हुए पॉलिटेक्निक ऑडिटोरियम पर समाप्त हुई। 

आज थाली में बैंगन व क्षमादान की प्रस्तुति 

नाट्य समारोह के चौथे दिन चारू श्रीवास्तव के निर्देशन में भिलाई इप्टा द्वारा थाली का बैंगन और क्षमादान नाटक की प्रस्तुति दी जाएगी। थाली के बैंगन में जहां आस्था और भ्रम का गुदगुदाता चित्रण है वही क्षमादान एक कत्ल की रोमांचक गुत्थी दर्शकों के रोंगटे खड़े कर देने वाली नाटक है। 

***

CG Basket

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कांकेर / सरकारी फैसले से नाराज आदिवासी ,जिलेभर के किसानों ने शुक्रवार को चक्काजाम कर दिया, कल से रबी फसल की खेती करेंगे किसान.

Fri Dec 29 , 2017
Share on Facebook Tweet it Share on Google Pin it Share it Email अंकुर तिवारी की रिपोर्ट 29.12.2017 कांकेर कांकेर। […]