लक्खे एक आदिवासी लड़की है

लक्खे एक आदिवासी लड़की है

himanshu kumar 
लक्खे एक आदिवासी लड़की है
लक्खे छत्तीसगढ़ के एड्समेट्टा गाँव मे रहती थी
लक्खे की तेरह साल की उम्र मे लखमा से शादी हुई

पुलिस वाले इनाम और के लालच मे आदिवासियों को जेल मे डालते रहते हैं
लक्खे जंगल मे लकडियाँ लेने गयी थी
पुलिस पार्टी उधर से गुज़र रही थी
पुलिस वाले लक्खे को पकड़ कर थाने ले गए
लक्खे को थाने मे बहुत बुरी तरह मारा
उसके बाद लक्खे को जेल मे डाल दिया गया
लक्खे पर पुलिस ने नक्सलवादी होने के चार फर्ज़ी मामले बनाए
तीन मामलों मे लक्खे को अदालत ने निर्दोष घोषित कर के बरी कर दिया है
लेकिन इस सब मे दस साल गुज़र गए
लक्खे अभी भी जगदलपुर जेल मे बंद है
शुरू के कुछ साल तक तो लक्खे को उम्मीद थी
कि मैं जेल से जल्द ही निकल कर घर चली जाऊंगी
जेल मे आने के चार साल तक लक्खे का पति जेल मे लक्खे से मिलने आता रहा
लेकिन चार साल बाद लक्खे ने अपने पति लखमा से जेल की सलाखों के पीछे से कहा
लखमा अब शायद मैं कभी भी बाहर ना निकल सकूं
जा तू किसी दूसरी लड़की से शादी कर ले
जेल से अपने पति के वापिस जाने के बाद
उस रात लक्खे बहुत रोई
सोनी सोरी भी तब जेल मे ही थी
लक्खे का रोना सुन कर
जेल मे दूसरी महिलाओं को लगा शायद लक्खे के परिवार मे किसी की मौत हो गयी है
इसलिए लक्खे रो रही है
लेकिन असल मे उस रात लक्खे के सपनों और उम्मीदों की मौत हुई थी
लक्खे अभी भी जगदलपुर जेल मे है
पूरी उम्मीद है लक्खे आख़िरी मुकदमे मे भी बरी हो जायेगी
लेकिन लक्खे के जीवन के इतने साल कौन वापिस देगा ?
लक्खे के सपनों की मौत भारत के संविधान और लोकतंत्र की मौत नहीं है क्या ?

Leave a Reply