आज किरंदुल में पहाड़ बचाने के आंदोलन में छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन सहित अनेक संगठनों के साथी शामिल हुए जिनमें आदिवासी नेता सोनी सोरी , छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन के संयोजक आलोक शुक्ला ,किसान नेता सुदेश टीकक्ष ,सामाजिक कार्यकर्ता अनुभव शौरघ ,पत्रकार तामेश्वर सिन्हा तथा अन्म प्रतिनिधि शामिल थे. उन्होंने चोर दरवाजे […]

किरंदूल में 13 नंबर डिपोजिट के खनन की अनुमति अदानी को दिये जाने के खिलाफ आदिवासियों के पांच दिन से चल रहे आंदोलन की सुखद परिणति होती दिख रही हैं. छत्तीसगढ़ सरकार ने आज जगदलपुर सांसद.दीपक बैज और आदिवासी नेता अरविंद नेताम के प्रतिनिधि मंडल को आश्वासन दिया है कि […]

पत्रिका न्यूज बिलासपुर , लंदन के टस नदी को तर्ज पर बिलासपुर की अरामा को विकसित करने के लिए तैयार विशेष प्राधिकरण योजना अब बंद होगी । शासन की ओर से इसके विघटन को लेकर पत्र आया था । सोमवार को शाम 5 बजे संभागीय कमिश्नर कार्यालय में हुई बैठक […]

उदासीनता विभाग की लापरवाही से कई बांधों के अस्तित्व पर ही मंडरा रहा है खतरा जिले में बनाए गए बांधों को सहेजने और संवारने में विभाग नहीं दे रहा ध्यान जिले में 47 डेम से 21837 हेक्टेयर खेतों की सिंचाई की दावा करता है सिंचाई विभाग पत्रिका patrika com जशपुरनगर […]

जगदलपुर @ पत्रिका , नगरनार स्थिति प्लांट का सोमवार को कोरियन कंपनी पास्को की टीम ने दौरा किया । इस दौरे से कर्मचारी , अनुसूचित जाति , अनुसूचित जनजाति कल्याण समिति और ऑफिसर एशोसिएशन निजीकरण को लेकर आशंकित । इस मामले को लेकर कर्मचारी समिति ने बस्तर कमिश्नर को राज्यपाल […]

आंदोलन अखबारों की नज़र में आज , विभिन्न न्यूज एजेंसी किरंदुल – बचेली शहर के लोग स्वेच्छा से मदद के लिए आ रहे आगे , मुस्लिम समाज करवा रहा लंगर . सोने की जगह , ना खाने को अनाज फिर भी आदिवासियों का जोश बरकरार , चौथे दिन मदद के […]

चार दिन से लगातार चल रहे आदिवासियों के संघर्षों का समर्थन करने पूरे राज्य से जन आंदोलन के प्रतिनिधि पहुच रहे है । छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन के संयोजक आलोक शुक्ला ,किसान नेता सुदेश टेकाम .अनुभव शौरी, पत्रकार तामेश्वर के साथ बड़ी संख्या में प्रतिनिधि पहुच रहे है. बैलाडिला के लिए […]

आगे उन्होंने भाषा विज्ञान और सामाजिक-सांस्कृतिक इतिहास पर जो काम किया जो एक विस्तृत योजना का ही परिणाम है।इसी तरह विवेकानंद के अनुवादों के पुनः प्रकाशन पर सवाल उठाया गया।डॉ शर्मा वेदांत की सीमित युग सापेक्ष प्रगतिशीलता को स्वीकार करते थे मगर उसकी सीमा को भी जानते थे। विवेकानन्द के […]

Breaking News