आज सिम्पलेक्स कास्टिंग के मजदूरों में फैली नाराजी , कंपनी ने 4 माह का वेतन मांगने के बदले में गेट पर ताला बन्दी.

कलादास डेहरिया की रिपोर्ट आज सिम्पलेक्स कास्टिंग के मजदूरों को जोरो से झटका लगा कि 4 माह का वेतन मांगने के बदले में गेट पर ताला बन्दी मिली ,मजदूर लगातार वेतन को लेकर 2 दिनों से टूल डाउन कर कम्पनी के अंदर मशीन के पास बैठ रहे थे . आज Continue Reading

आज भी अदानी कंपनी के एक विज्ञापन में भी प्रधानमंत्री की तस्वीर का इस्तेमाल.

अपना मोर्चा .काम से आभार सहित . रायपुर. अब अडानी कंपनी के एक विज्ञापन में भी प्रधानमंत्री की तस्वीर का इस्तेमाल किया गया है.मंगलवार 30 अप्रैल को प्रधानमंत्री की तस्वीर वाला यह विज्ञापन दैनिक भास्कर के पृष्ठ क्रमांक 9 में प्रकाशित हुआ है. यह भी संभव है कि अलग-अलग संस्करण Continue Reading

इनके डपोरशंखी विकास पर इलिका प्रिय की यह कविता क्या कहती है जरा गौर करें .

इनके डपोरशंखी विकास पर इलिका प्रिय की यह कविता क्या कहती है जरा गौर करें  सुना है हमनेसरकार कहती है चल रहा है नक्सलमुक्त अभियानक्योंकि,नक्सलवाद ने बाध्य कर रखा है गांवों के विकास को, अगर यह सच है तबपूर्ण विकसित होना चाहिए वह क्षेत्रजहां नहीं हैं हथियारबंद दस्तायानी जहां नहीं Continue Reading

Around 16000 people migrated to state of Andhra Pradesh after 2005 when violence increased in State-Maoist conflict in state of Chhattisgarh.

India passed a law called Forest Rights Act in 2006 which gives land rights to all Adivasis ( Indigenous people) who worked on their land till 12th Dec 2005 and before. They called it correcting a historic injustice made to India’s Indigenous people None of these Indigenous people living in Continue Reading

कन्हैया का घर ,चुनाव प्रचार : नरेश सक्सैना और विनीत तिवारी

बेगूसराय 26 अप्रैल ’19 कन्हैया के घर में, कन्हैया की मां और विनीत तिवारी के साथ। टीन का दरवाज़ा, लकड़ी और बांस की चटाइयों से बना परिसर वैसी ही छतें। विनोद कुमार शुक्ल ने शिव जी के एक बहुत छोटे मंदिर को देख कर कहा था , यह एक ग़रीब Continue Reading

पेप्सो का साथ किसानों का विनाश : संजय पराते

प ◆ जिस गुजरात राज्य को भाजपाई विकास के मॉडल के रूप में पेश किया जाता है, वहीं से खबर आई है. खबर यह है कि बहुराष्ट्रीय कंपनी पेप्सिको ने वहां के 9 गरीब किसानों पर उसके द्वारा रजिस्टर्ड आलू बीज से आलू की ‘अवैध’ खेती करने के लिए 5 Continue Reading

1 मई अन्तर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस पर विशेष मई दिवस का आह्वान – तुहिन देब

इस वर्ष मजदूर वर्ग पूरी दुनिया में मई दिवस ऐसे समय में मना रहा है जब सभी क्षेत्रों उन पर चौतरफा हमला दिन-ब-दिन तेज होता जा रहा है। द्वितीय अन्तर्राष्ट्रीय का 4 जुलाई 1889 को पेरिस में सम्मेलन हुआ था जिसमें 1890 से एक मई को अन्तर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस के Continue Reading