पर्सनैलिटी ऑफ द वीक की इस 37 वीं कड़ी में. DMA on line .वंचितों की आवाज़ के लिये भारत का दूसरा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान पद्म विभूषण प्राप्त छत्तीसगढ़ की पहली लोक कलाकार तीजनबाई का साक्षात्कार …

पर्सनैलिटी ऑफ द वीक की इस 37 वीं कड़ी में. DMA on line .वंचितों की आवाज़ के लिये भारत का दूसरा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान पद्म विभूषण प्राप्त छत्तीसगढ़ की पहली लोक कलाकार तीजनबाई का साक्षात्कार दस हज़ार बार देखा गया .इसे लिया है संजीव खुदशाह ने . आपने यदि Continue Reading

भाजपा विधायक भीमा मंडावी की नक्सलियों द्वारा हत्या चुनावी हिंसा को लोकतांत्रिक चुनाव प्रक्रिया में बाधक .: पीयूसीएल छत्तीसगढ़ ने की निंदा .

  11 अप्रेल  2019 बस्तर में दंतेवाड़ा के कुआकोंडा क्षेत्र में नक्सलियों ने महज़ चुनाव के 48 घंटे पहले 09 अप्रेल को चुनाव प्रचार के दरमियान भाजपा  विधायक भीमा मंडावी और उनकी सुरक्षा दस्ते पर ब्लास्ट कर उनकी हत्या कर दी है ।इस घटना की खबर से लोकतंत्र और अमन Continue Reading

असहमति का हक़ ही लोकतंत्र की जान है .:. जीवेश चौबे .

12.04.2019 जीवेश चौबे { देशबंधु के लिये एवं प्रकाशित लेख } भाजपा की इस दलील में कोई दम नहीं कि 124 ए खत्म कर देने या सशस्त्र बल विशेषाधिकार अधिनियम (आफस्पा) पर पुनर्विचार से आतंकवाद व देशद्रोहियों को मदद मिलेगी।  अपने जन्म से ही धारा 124ए शासकों के लिए मुफीद, Continue Reading

चर्चित कथाकार कृष्ण बिहारी का कहानी संग्रह,  ” ब-बॉय  “. मूल्यों के द्वंद्व की कहानियां.  :  अजय चंन्द्रवंशी.

 12..04.2019  कहानी अपने यथार्थवादी चित्रण की संभावना और क्षमता के लिए चर्चित रही है.कथाकार को इसमे अपने इच्छित ‘कथ्य’ को समग्रता से व्यक्त करने का बेहतर अवसर प्राप्त होता है. यों कहानी भी यथार्थ का पुनः सृजन है और इसमे भी कल्पना का समावेश होता है,फिर भी कथाकार को अपने Continue Reading

“सीधे बनारस से”……. सच बोलने पर जिन्होंने सेना से निकाला था आज मोदी के विरुद्ध बनारस से चुनावी ताल ठोंक रहा है जवान तेज बहादुर .: लोकतंत्र की ये लड़ाई व्यक्तिगत नही बल्कि उस दोष पूर्ण सिस्टम से है,जो जवान को इंसान नही समझता है: पंकज मिश्रा { पूर्व CRPF जवान}

पूरा देश देख रहा बड़बोले बेईमान और झूठे चौकीदार के खिलाफ असली देशभक्त चौकीदार खड़ा चुनांव में खड़ा है- तेज बहादुर 12.04.2019 वाराणसी।  जिनको भी छत्तीसगढ़ (बस्तर संभाग) के सुकमा जिले के बुर्कापाल में घट भीषण नक्सल हमले की घटना याद होगी उन्हें सी आर पी एफ का जाबांज़ सिपाही Continue Reading

में सुजोय मंडल बोल रहा हूं : 9 अप्रैल 2014 चिंतागुफा नक्सल हमले को लेकर एक्स कोबरा सुजोय मंडल ने प्रेस से कहा- कि भले ही घटना को पांच साल बीत गए पर उनका दर्द आज भी हरा है,अब और क्या अच्छे दिन आएंगे..

सुजोय मंडल , एक्स कोबरा जवान  12.04.2019 नितिन सिन्हा  कोलकाता / आमतौर पर हर व्यक्ति के जीवन काल मे कुछ अच्छी-बुरी ऐसी घटनाएं घटती है,जिसकी कसक उसे ता-उम्र बनी रहती है। वह इन घटनाओं को चाह कर भी भुला नही पाता है। ऐसी ही एक घटना को याद करते हुए Continue Reading