भूपेश भी अडानी के कोल ब्लॉक के लिए आदिवासियों को उजाड़ना चाहते हैं. ःः संजय पराते .

भूमि_अधिग्रहण_के_लिए_अब_बघेल_ने_तानी_बंदूक 30.03.2019 ◆ उन्होंने भाजपा सरकार द्वारा टाटा के लिए अधिग्रहित जमीन की वापसी का वादा किया था. यह वादा भी आदिवासियों को अपने साथ लाने के लिए राहुल गांधी ने किया था, भूपेश बघेल ने नहीं. इसलिए बस्तर में आदिवासियों की जमीन वापस की गई है, तो सरगुजा, कोरबा, Continue Reading

कन्हैया के पक्ष में बेगूसराय आ रहे हैं-देश भर से लेखक, कवि ,कलाकार और बुद्धिजीवी. : अपील आप भी आईये , लोकतांत्रिक ,धर्म निरपेक्षता की राजनीति विजय को निर्णायक बनायें.

30.03.2019 अब यह जाहिर हो गया है कि बेगूसराय मेंnnn मोदी बनाम कन्हैया की लड़ाई छिड़ चुकी है। घृणादेव मोदी के उन्मादी भक्तजन झूठ ,नफरत और फरेब के सहारे युद्ध जीतने का मंसूबा रख रहे हैं। यही कारण है कि मोदी – शाह ने अपने घृणापुत्र गिरिराज को मनुहार करके Continue Reading

क्या 50 हजार मिलियन टन कोयला का भंडार निकालने उत्तर छत्तीसगढ़ के सभी जंगलो का विनाश कर देंगे.

30.03.2019 जंगल – जमीन पर ग्रामीण आदिवासियों की आजीविका, पहचान और संस्कृति जुडी हैं यदि उसे छीन लेंगे तो एक तरह से उनका अस्तित्व ही ख़त्म करने जैसा हैं l मुझे लगता हैं कि प्रदेश में अब यह बहस शुरू होनी चाहिए कि आखिर हम कितना खनन करेंगे l क्या Continue Reading

समाजवाद: भगतसिंह से शावेज़  तक ःःपरिसंवाद  ,केनेरिस आर्ट गैलरी इंदौर मेंं कल ..

31 मार्च, 2019, रविवार।  शाम 4:30 से 7:30 बजे।  केनेरिस आर्ट गैलरी,  577, 1 -ए,  ट्रेजर आइलैंड के सामने, महात्मा गाँधी मार्ग, इंदौर (मध्य प्रदेश) .  सोवियत संघ के विघटन के बाद से पूँजीवाद ने अपने सभी नक़ाब उतार फेंके हैं और वह अपने असली क्रूर चेहरे के साथ सामने Continue Reading

रायपुर ःः विज्ञान माडल प्रदर्शनी तथा टेलिस्कोप असेंबलिंग वर्कशॉप आज रविशंकर विश्वविद्यालय में.

30.03.2019 छत्तीसगढ़ विज्ञान सभा तथा सेंटर फॉर बेसिक साइंस, पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर* द्वारा दिनांक 30 मार्च 2004 को प्रातः 10:30 बजे से *इनोवेटिव साइंस मॉडल एग्जीबिशन तथा टेलिस्कोप असेंबलिंग वर्कशॉप* का आयोजन किया गया है। प्रेक्षागृह के पीछे सीबीएस भवन में आयोजित इस प्रदर्शनी में विद्यार्थियों द्वारा तैयार Continue Reading

चुआन – चूना – चिलम इनमें काहे की छूत .. . नवल शर्मा

29.03.2019 नदी के चुआन जैसी एक धारा दुबली पतली दिप दिप करता गोरा अंग कोई छूने से डरे इतनी नाजुक छोटी मड़िया के पुजारी की बहू कहो या अरपा नदिया कहो एकई जैसे – जुड़वां . * इतना उजास कि रद्दा दिखता रहे , इतना अंधियार कि गीले लुगरा से Continue Reading

मंदिर के चबूतरे पर हम चार नास्तिकों ने वैसे तो बहुत सारी बात की थोड़ी रिकार्ड भी कर ली ..अनुज श्रीवास्तव .

29.03.2019 अनुज श्रीवास्तव ने की बातचीत .मंदिर के चबूतरे पर हम चार नास्तिकों ने वैसे तो बहुत सारी बात की, थोड़ी सी रिकॉर्ड भी कर ली पत्रकार और मानव अधिकार कार्यकर्ता सीमा आज़ाद मानव अधिकार रक्षक और वकील के तौर पर सामाजिक मुद्दों पर मुखर रहने वालीं प्रियंका शुक्ला नाटक Continue Reading