बांगला देश जाएंगे नथमल शर्मा : ” प्रलेस के सम्मेलन में भारतीय प्रतिनिधि मंडल का नेतृत्व करेंगे .

13.03. 2019 / बिलासपुर   बांगलादेश प्रगतिशील लेखक संघ का तीसरा सम्मेलन 15 मार्च से ढाका में हो रहा है । इस सम्मेलन में भारतीय प्रतिनिधि मंडल भी भाग लेगा । जिसका नेतृत्व बिलासपुर के श्री नथमल शर्मा ,.संपादक दैनिक ईवनिंग टाइम्स करेंगे । श्री नथमल शर्मा प्रगतिशील लेखक संघ के Continue Reading

खुला पत्र :माननीय न्यायमूर्ति रंजन गोगोई, भारत के सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश :अयोध्या मामले में मध्यस्थता आदेश भारतीय संवैधानिक राज्य व्यवस्था पर कुठाराघात है, जिसकी हिफाजत करना सर्वोच्च न्यायालय का अनिवार्य कर्तव्य है! : शम्सुल इस्लाम.

माननीय भारत के मुख्य न्यायाधीश महोदय, दुनिया आपको भारतीय संवैधानिक राज्य व्यवस्था में नस्ल, पंथ, धर्म, भाषा, संस्कृति और लिंग आदि तमाम भेदभाव किए बिना सभी नागरिकों के प्रति समान व्यवहार के मुख्य रक्षक के रूप में जानती हैं। लेकिन, आपकी अध्यक्षता में गठित खंडपीठ (जस्टिस एस ए बोबडे, डी Continue Reading

इनका टोटल बहिष्कार करना ही सही विकल्प बचा हैं : चैनलों में ऐसे राजनीतिक संपादक और एंकर पैदा किए गए हैं जो पूरी निर्लज्जता के साथ मोदी की वकालत कर रहे हैं. : रवीश कुमार .

   रवीश कुमार  मीडिया हमारी लोकतांत्रिक संस्थाओं का एक अग्रणी चेहरा है। इन पांच सालों में गोदी मीडिया बनने की प्रक्रिया तेज़ ही हुई है, कम नहीं हुई। एक मालिक के हाथों में पचासों चैनल आ गए हैं और पुराने मालिकों पर दबाव डालकर उनके सारे चैनलों के सुर बदल Continue Reading

मालिक परेशान पत्रकार खुश . : अब मुख्यमंत्री सचिवालय से नहीं आते फोन , न रोक न टोक न एंगल बदलने का दबाव ..

अपना मोर्चा .काम से  छत्तीसगढ़ के अमूमन सभी ( इक्का-दुक्का को छोड़कर ) अखबारों और चैनलों के संपादक इन दिनों परेशान चल रहे हैं. उनकी परेशानी की वजह यह नहीं है कि काम का बोझ बढ़ गया है. बल्कि वे इसलिए परेशान चल रहे हैं कि अब उन्हें मुख्यमंत्री सचिवालय Continue Reading

क्या 12, 15 साल के बच्चे नक्सली होते हैं ?? अगर ऐसा है , तो ……

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=1547398765372716&id=100003078223574 क्या 12, 15 साल के बच्चे नक्सली होते हैं ?? अगर ऐसा है तो चूल्लू भर पानी में डूब मरो सरकार जी क्योंकि फिर ये नक्सली नहीं आपके पापों की जन्म कुंडली है जो ये आदिवासी बच्चे स्कूल जाने के बजाय नक्सली बन रहें हैं ! आपने आजादी के Continue Reading

इस विशाल देश को 130 करोड़ जनता चलाती है।उसे किसी राजा या तानाशाह की जरूरत नहीं है

नंद कश्यप  लगभग सारे चैनल एक बात को खास तौर पर रेखांकित कर रहे हैं वह यह कि विपक्ष के पास चेहरा नहीं है।यह भी मतदाता पर एक मनोवैज्ञानिक हमला है।हम प्रतिनिधि लोकतांत्रिक व्यवस्था में हैं जहां सांसद प्रधानमंत्री चुनते हैं। आर्थिक सांस्कृतिक भौगोलिक विविधताओं से संपन्न इस विशाल देश Continue Reading

Open letter to The chief justice of india – re ayodhya case – countercureents …

Open Letter to The Chief Justice of India –re Ayodhya Case Mediation order in Ayodhya case is bludgeoning of the Indian constitutional polity which the Supreme Court is duty-bound to safeguard Honourable Chief Justice of India, You know more than anyone else in the world that Indian constitutional polity treats Continue Reading