फर्जी मुठभेड़ के खिलाफ काउंटर एफआईआर दर्ज करने कल भैरमगड में होंगे आदिवासी . आप भी आईये समर्थन दीजिए .

बस्तर में सरकार के हाथों गरीब आदिवासी ग्रामीणों पर लगातार चलते हुए मनावाधिकार हनन की लड़ाई  में दिनांक 7 फरवरी 2019 अबुझमाढ़ पहाड़ी पर स्थित ताडिबल्ला, भैरमगढ़ तहसील, बीजापुर पर हुई घटना एक और घिनोनी कड़ी है. गौरतलब है कि इस घटना को सरकार और गृह मंत्री सैनिको की एक Continue Reading

भारत में इस्लामी आतंकवाद एक सरकारी शगूफा है:. हिमांशु कुमार

4.02.2019 { हिमांशु कुमार की फेसबुक से आभार सहित } भारत में दमनकारी कानून बनाये गये उसमें 95% तक निर्दोष मुसलमानों को जेलों में ठूंस दिया गया इन जेल में डाले गये मुसलमानों में से 98% निर्दोष पाए गये कोई आठ साल कोई सोलह साल कोई तेईस साल बाद जेल Continue Reading

भैरमगढ : 7 फरवरी को फर्जी मुठभेड़ में मारे गये दस आदिवासियों और बच्चों के परिजन और ग्रामीण आयेंगे कल भैरमगढ अपनी कहने के लिये . कलेक्टर से कहा उन्हें आने दें.

4.03.2019 सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोरी ने बीजापुर के कलेक्टर को पत्र लिखकर कहा है कि 7 फरवरी को दस आदिवासियों की सुरक्षाबलों द्वारा कि गई हत्या के खिलाफ़ और सुप्रीम कोर्ट की रोशनी मे अपनी बात कहने पांच मार्च को बीजापुर आ रहे है . सोनी ने पत्र में लिखा Continue Reading

5 मार्च को आयोजित भारत बंद को व्यापक रूप से सफल बनायें : आदिवासी भारत महासभा

4.02.2019 रायपुर  आदिवासी महासभा (ABM) 5 मार्च 2019 को आयोजित भारत बंद के आह्वान का पूर्ण समर्थन करता है। विभिन्न आदिवासी संगठनों द्वारा आयोजित इस बंद के सभी खरे माँगो के साथ तहे दिल से एकजुटता कायम करता है। भले ही सर्वोच्च न्यायालय द्वारा आदिवासियों को उनकी जमीन से जबरन Continue Reading

युद्ध मनुष्य के विवेक का स्थगन हैः अशोक वाजपेयी

युद्ध और शांति: नवभारत आज (03.03.2019) ‘नवभारत’ (छत्तीसगढ़-ओडिशा) के रविवारीय में डा. दीपक पाचपोर ने साक्षात्कार लिया अशोक वाजपेयी का . प्रस्तुत है ,चर्चा . प्रसिद्ध साहित्यकार-आलोचक अशोक वाजपेयी का मानना है कि युद्ध मनुष्य के विवेक और नैतिकबोध का स्थगन है. वे युद्ध को अपवित्र मानते हैं. ‘संडे नवभारत’ Continue Reading

चुनाव को जनता के मसलों से ज्यादा युद्धोन्माद के हवाले करने की कोशिश: उर्मिलेश

युद्ध और शांति: नवभारत आज (03.03.2019) ‘नवभारत’ (छत्तीसगढ़-ओडिशा) के रविवारीय में  डा. दीपक पाचपोर द्वारा उर्मिलेश जी का  साक्षात्कार . पड़ोसी मुल्क के साथ युद्ध के हालात पर प्रसिद्ध चिंतक-पत्रकार उर्मिलेश की ‘संडे नवभारत’ से लंबी बातचीत के प्रमुख अंश- ●  आजादी के बाद गाहे-बगाहे भारत-पाकिस्तान की जनता वॉर हिस्टेरिया Continue Reading

युद्ध और मनुष्य के बीच एक को चुनने का अवसर : डॉ. दीपक पाचपोर

युद्ध और शांति: नवभारत आज (03.03.2019) ‘नवभारत’ (छत्तीसगढ़-ओडिशा) के रविवारीय में प्रकाशित  मुख्य लेख लड़ाई दो तरफा होती है, एक तरफ बारूद, दूसरी ओर रोटी होती है. जिन्हें युद्ध का शौक होता है, उन्हें रोटी के जल जाने का पता नहीं चलता. क्योंकि वे हथियारों पर इतराते हैं और धमाकों Continue Reading

इतिहास : फाहियान का यात्रा विवरण: पाँचवी शताब्दी के भारत के कुछ चित्र : अजय चंन्द्रवंशी

4.03.2019 ईसा पूर्व छठी शताब्दी के धार्मिक आंदोलनों में बौद्ध धर्म का उदय एक महत्वपूर्ण घटना थी.जरूर इसके ‘उदय’ के अपने सामाजिक-आर्थिक कारण भी थें.अपने ‘समतावादी’ दर्शन के कारण इसने समाज के बड़े वर्ग को आकर्षित किया.इससेअश्पृश्य कही जाने वाली जातियों के अलावा शासक वर्ग जो क्षत्रिय थें,भी आकर्षित हुए, Continue Reading

जाने क्या है…. कोयतुर इतिहास : माखन लाल सोरी

#शंभू माई/ हजोर /बेरहा नरका ( माघ पूर्णिमा के तेरहवें दिन) जाने क्या है…. कोयतुर इतिहास शंभू सेक नरका पण्डुम को ” संभू की जागने का रात या नरका ” अर्थात् संभू की जागरण की रात को कहा जाता है। यह त्यौहार माघ पूर्णिमा से तेरह दिन बाद मनाया जाता Continue Reading