सर संघचालक मोहन भागवत के नाम सामाजिक कार्यकर्ता विमल भाई का पत्र .

17 .05.2018 : हरियाणा. श्रीमान मोहन भागवत जी,                                    सरसंघ चालक राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ केशव कुंज 10196, देशबन्धु गुप्ता रोड, झंडेवालान, दिल्ली – 110055 नमस्कार, मेरा नाम विमल भाई है। मैं उत्तराखंड में सन् 1988 से टिहरी बांध के
Complete Reading

आज चर्चा हेतु प्रस्तुत है हमारी नन्ही बाल कथाकार *उदिता मिश्र* की नई कहानी। पढ़कर टिप्पणी जरूर कीजिये। आज टिप्पणी अनिवार्य है। ☺आप सभी की प्रतिक्रियाओं की मुझे और उदिता दोनों को प्रतीक्षा रहेगी। || बदमाश शैतान बिल्ला || आज सुबह मम्मी ने मुझे याद दिलाया कि मैं अपने दोस्त के लिए एक कटोरा दूध
Complete Reading

  लिपियांतर : जितेंद भगत सिंह छात्र मोर्चा द्वारा प्रस्तुत  “छात्र मशाल” अखबार 19.05.2018 ** वरवर राव तेलगू के प्रसिद्ध कवि और रेवोल्यूशनरी डेमोक्रेटिक फ्रंट के अध्यक्ष है। तेलगू भाषी वक्ता के हिंदी व्यक्तव्य की वजह से लिप्यान्तरण में कुछ शब्दों व वाक्यों की समस्या हो सकती है। बेमक़सद मर जाना नहीं, हमारा एक मकसद
Complete Reading

कला  साहित्य संस्कृति के लिये कविता कोष से आभार सहित . ⚫ इन्हें प्रणाम करो ये बड़े महान हैं. दंत-कथाओं के उद्गम का पानी रखते हैं पूंजीवादी तन में मन भूदानी रखते हैं इनके जितने भी घर थे सभी आज दुकान हैं इन्हें प्रणाम करो ये बड़े महान हैं । उद्घाटन में दिन काटें रातें
Complete Reading

⭕ कला साहित्य संस्कृति के लिये कविता कोष से आभार सहित . ⚫ इन्हें प्रणाम करो ये बड़े महान हैं. दंत-कथाओं के उद्गम का पानी रखते हैं पूंजीवादी तन में मन भूदानी रखते हैं इनके जितने भी घर थे सभी आज दुकान हैं इन्हें प्रणाम करो ये बड़े महान हैं । उद्घाटन में दिन काटें
Complete Reading

14.05.2018 ** तमीज़ो, तहज़ीब से ख़ुन और परवरिश का सीधा रिश्ता होता है. फैज़ अहम फैज़ को कौन नहीं जानता ,उन्ही की बेटी के साथ भारत सरकार के ज़हिल पूर्ण व्यवहार की सारे देश मे आलोचना हो रही है कि कैसे सरकार के ही विभाग ने उन्हें आमंत्रित किया और उनके दिल्ली पहुचने के बाद
Complete Reading

  14.05.2018 ’’पिछले कुछ समय से सोशल मीडिया पर एक पोस्ट चल रहा है कि ब्राम्हणों ने क्यों सिर्फ अंग्रेजो के खिलाफ ही लड़ाई की। क्यों उन्होंने मुघलों या तुर्कों के खिलाफ लड़ाई नहीं लड़ी। चूंकि अंग्रेज, ब्राम्हणों के खिलाफ थे और मूल निवासियों/ शोषितों के पक्ष में थे और उन्होंने बहुत कुछ कानून बनाया
Complete Reading

दोस्तों आज हम हो ची मिन्ह की कुछ कविताएं पढ़ते हैं। अनुवाद हिन्दी के महत्वपूर्ण कवि और उतने ही महत्वपूर्ण अनुवादक सोमदत्त जी का है। पढ़ें और इन पर और अनुवाद पर भी बात करें साथियों   1 *हज़ार कवियों का कविता-संग्रह पढ़ने पर* पुरखे चाव से गाते थे गीत नैसर्गिक सौन्दर्य के बर्फ़ के,
Complete Reading

दोस्तों आज विनय दुबे की कविताएं प्रस्तुत कर रहा हूँ. विनय दुबे प्रतिरोध के सशक्त कवि थे. उनका एक बिलकुल अलग अंदाज था. कविता के इस तेवर को देखिये और इन कविताओं पर बात कीजिए. दस्तक के लिए प्रस्तुति अमिताभ मिश्र दिल्ली होने से तो अच्छा है मैं पहाड़ देखता हूँ तो पहाड़ हो जाता
Complete Reading

5 may 2018 इतिहास में ऐसे कम ही लोग होते हैं  जो 200 वीं सालगिरह पर भी उतने जीवन्त और प्रासंगिक बने रहें जितने कार्ल मार्क्स हैं । 1818 की 5 मई को जन्मे मार्क्स की 5 मई 2018 दो सौं 200वीं हैप्पी बर्थ डे है और बजाय पुराना पड़ने के उनकी प्रासंगिकता नित नयी प्रामाणिकता के साथ उभर
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account