हम तो अपनी सांसों की वकालत करेंगे….पूरी दुनिया में ही जंगलों की जान को खतरा है…

कबीर संजय ,जंगल कथा से … पूरी दुनिया में ही जंगलों की जान को खतरा है। कहीं पर रेल की पटरियों के लिए, कहीं पर बुलेट ट्रेन के लिए, कहीं पर एक्सप्रेस वे के लिए, कहीं पर खेती के लिए, कहीं पर बांध के लिए, कहीं पर कोयला-लोहा जैसे खनन Continue Reading

हरी भरी सी अरपा ….

हां ,आजकल अरपा के मिज़ाज कुछ बदले बदले से है. हांलाकि भरी बरसात में भी पूरे यौवन पर तो नहीं हैं ,फिर भी जो अरपा से प्रेम करते है उन्हें थोडा़ संतोष हो सकता हैं कि अरपा हरी भरी सी दिख रही हैं.हमें सूखी सूखी देखते रहने की आदत हैं Continue Reading

शानदार पहल : एक्सप्रेस – वे के रास्ते में बाधा बने पेड़ों को काटा नहीं , डब्ल्यूआरएस में किया शिफ्ट. रायपुर

स्टेशन कैम्पस की ओर लगे थे पेड़ पत्रिका रायपुर . एक्सप्रेस – वे सड़क से स्टेशन कैम्पस की तरफ बाधक बन रहे पुराने पेड़ों को रेलवे प्रशासन काटकर धराशायी करने के बजाय उन पेड़ों को दूसरी जगहों पर शिस्ट कराने की पहल की है । रविवार को लगभग 10 मीटर Continue Reading

दुनिया को जलवायु संकट से बचाने के लिए एक हजार अरब पेड़ों को लगाए जाने की जरूरत है.

कबीर संजय ,जंगल कथा से दुनिया को जलवायु संकट से बचाने के लिए एक हजार अरब पेड़ों को लगाए जाने की जरूरत है। इतने पेड़ अगर लगाए जाएं तो वे 830 अरब टन कार्बन डाई आक्साइड को सोख लेंगे और दुनिया जलवायु संकट के घातक परिणामों से बच जाएगी। मौसम Continue Reading

अरपा को बहने दो : जनभागीदारी से श्रमदान और मशीनों की सहायता से नेचर क्लब के नेतृत्व में महीने भर किये प्रयास की सराहना.

लोग अगर स्थानीय वस्तुओं का उपयोग करेंगे तो यह पर्यावरण के हक़ में होगा.बाज़ार जाते समय थैला लेकर जाएं.प्लास्टिक का उपयोग स्वतः समाप्त हो जाएगा.” ये बातें ज़िला कलेक्टर डा.संजय अलंग ने नेचर क्लब के कार्यक्रम”अरपा को बहने दो”में मुख्य अतिथि की आसंदी से कही. विश्व पर्यावरण दिवस से अरपा Continue Reading

पैसे की सनक सबकी दुश्मन है ,पेड़-पौधे, पानी, पहाड़ और प्रकृति सबकी .

कबीर संजय ,जंगल कथा से पैसे की सनक सबकी दुश्मन है। पेड़-पौधे, पानी, पहाड़ और प्रकृति। उसके लिए सब बस उसकी इच्छा पूर्ति के साधन है। वो सबकुछ खरीद सकता है। औली ने हाल ही में इसकी एक झलक देखी है। यहां पर होने वाली सिर्फ एक शादी के बाद Continue Reading

अरपा पर नवल शर्मा का कविता पाठ सुनेंगे , तो सुनिये.

नवल शर्मा . हिंदी का विद्यार्थी . बिलासपुर ने गढ़ा – यहीं बढ़ा . छत्तीसगढ़ की माटी मालिक मैं कमिया हथगढ़िया. नवल शर्मा जी से अरपा पर लिखीं कविताएँ यदा कदा कभी कभी कहीं सुनते रहे थे ,सोचा एक बार कविता पाठ के लिये तैयार कर ही लिया जाये। प्रथमेश Continue Reading

नर्मदा और घाटी को बचाने के लिए कटिबद्ध रहे मध्य प्रदेश शासन . गुजरात से पुनर्वास , पर्यावरण और बिजली की वसूली ज़रूरी : नहीं बिना पुनर्वास अवैध डूब.

प्रेस विज्ञप्ति भोपाल । नर्मदा मध्य प्रदेश साथ ट्रिब्यूनल के समक्ष सरदार सरोवर को संपूर्ण विरोध दर्शाने कहा था, यह बांध राज्य के साथ बड़े डूब क्षेत्र की भरपाई व पुनर्वास असंभव है। आज फिर जब मध्य प्रदेश और गुजरात के बीच उभरा है, वह दलीय राजनीतिक नहीं बल्कि आर्थिक Continue Reading

छत्तीसगढ़ सरकार को यह तय करना होगा कि जीवन चाहिए या उद्योग?-गणेश कछवाहा.

रायगढ़ जिले में अब कोल आधारित उद्योगों की स्थापना या विस्तार पर पूर्ण प्रतिबंध होना चाहिए। रायगढ़ इसे और सहन करने की स्थिति में नहीं है।सरकार को यह तय करना होगा कि जीवन चाहिए या उद्योग? सरकार की ही रिपोर्ट बता रही है कि प्रदूषण खतरनाक सीमा को पर कर Continue Reading

जल वायु परिवर्तन नही जलवायु प्रलय : चंद्र भूषण

जलवायु आपातकाल वास्तविक है हमें इसके प्रलय से बचने के लिए वास्तविक कार्रवाई ओर कदम बढ़ाना होगा स्कॉटलैंड पहले ही जलवायु आपातकाल घोषित कर चुका है । न्यूजीलैंड की संसद जल्द ही इस दिशा में अपने कदम बढ़ा सकती है । लेकिन बड़ा सवाल यह है कि भारत इस दिशा Continue Reading