ग़ज़लें प्रदीप कांत की : दस्तक़ में प्रस्तुत अमिताभ मिश्र

CG Basket

Author Posts

दोस्तों आज समूह के साथी प्रदीप कांत की कुछ ग़ज़लें पेश कर रहा हूं। प्रदीप छोटी बहर में जो बड़ा कमाल करते हैं उसका मैं कायल हूं तो आप भी पढ़ें ये ग़ज़लें और इन पर बात करें।   फिर से पत्थर, फिर से पानी फिर से पत्थर, फिर से पानी कब तक कहिए, वही
Complete Reading

  25.09.2018/ रायपुर  किसान हो। चाहे मजदूर हो। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हो। शिक्षाकर्मी हो या फिर सरकारी कर्मचारी। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री और उनकी तबाही की पटकथा लिखने वाले अफसरों को शायद यह भ्रम था कि लाठी-गोली-डंडे-पुलिस और कोर्ट-कचहरी के दम पर वे भूपेश बघेल को डरा लेंगे, लेकिन सरकार को यह दांव उल्टा पड़ गया। सोमवार
Complete Reading

    25.09.2018/ रायपुर  किसान हो। चाहे मजदूर हो। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हो। शिक्षाकर्मी हो या फिर सरकारी कर्मचारी। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री और उनकी तबाही की पटकथा लिखने वाले अफसरों को शायद यह भ्रम था कि लाठी-गोली-डंडे-पुलिस और कोर्ट-कचहरी के दम पर वे भूपेश बघेल को डरा लेंगे, लेकिन सरकार को यह दांव उल्टा पड़ गया।
Complete Reading

24.09.2018 रायपुर / भूपेश को जेल भेजने का फैसला भले ही न्यायिक हो सकता है, लेकिन ठीक चुनाव से पहले इस फैसले की गूंज दूर तलक जाने वाली है। रणनीतिकारों का दावा है कि भूपेश के जेल चले जाने से छत्तीसगढ़ सरकार के उन नुमाइंदों की हवा टाइट हो गई है जो सरकार को बिन
Complete Reading

  24.09.2018 रायपुर /   कथित सीडी कांड में सीबीआई कोर्ट में तलब किए जाने के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल के फैसले से छत्तीसगढ़ सरकार की हवा टाइट हो गई है। भूपेश सोमवार को जैसे ही सीबीआई कोर्ट के सामने प्रस्तुत हुए उनसे कहा गया कि वे जमानत की तैयारी कर लें, लेकिन
Complete Reading

24.09.2018 रायपुर  डा.सत्यभामा अवस्थी की रिपोर्ट  रायपुर में यह सम्मेलन आयोजित किया गया था. देश भर के 23 राज्यों से लगभग 1000 प्रतिभागी इसमें शामिल हुए. 22 की सुबह 9 बजे से पंजीयन के साथ ही 23 की शाम 7 बजे समापन किया गया. 7 सत्रों में 15 स्वास्थ्य मुद्दों पर चर्चा की गई.. समानांतर
Complete Reading

“.. मैं दुनिया के कई तानाशाहों की जीवनियां पढ चुका हूं कई खूंखार हत्यारों के बारे में भी जानता हूं बहुत कुछ घोटालों और यौन प्रकरणों में चर्चित हुए कई उच्चाधिकारियों के बारे में बता सकता हूं ढेर सारी अंतरंग बातें और निहायत ही नाकारा किस्म के राजनीतिज्ञों के बारे में घंटे भर तक बोल
Complete Reading

  24.09.2018 कल्‍पना लाजमी का जाना हिंदी फिल्‍म जगत का एक बड़ा नुकसान है। बहुत बरस पहले एक सीरियल आया था ‘लोहित किनारे’। ये दूरदर्शन का ज़माना था। मुमकिन है आपको ये सीरियल याद भी हो। इसका शीर्षक गीत शायद भूपेन हजारिका ने गाया था। असम की कहानियों पर केंद्रित ये धारावाहिक बनाया था कल्‍पना
Complete Reading

http://www.dmaindia.online/2015/07/blog-post.html मूलत: बघेलखण्ड और बुंदेलखण्ड (आज मप्र और उप्र के कुछ हिस्से) में निवास करने वाली डोमार जाति जो भंगी व्यवसाय में जुडी हुई है। ने अचानक 1941 के आस पास अपने आपको सुदर्शन नाम के पौराणिक ऋषि से जोड लिया। वे अपनी जाति की पहचान सुदर्शन समाज के रूप में बताने लगे। वे ऐसा
Complete Reading

24.09.2018, रायपुर  छत्तीसगढ़ की सियासत में वोटर खामोश है, बीते 1 महीने से प्रदेश के 12 जिलो से अधिक दौरे करने के बाद यह मेरा व्यक्तिगत अनुभव है कि, मतदाता खामोश है। मतदाता को यह स्पष्ट नहीं है कि, उसे किसे मतदान करना है। मतदाता के सामने सवाल ही सवाल हैं, मतदाता अंर्तव्यक्तिक कम्यूनीकेशन से
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account