अरपा का उद्गम बिक रहा है – एक पानी परंपरा दफ़न हो रही है – हम बेबस हैं . नवल शर्मा .

नदी अरपा कभी यहां से बहती थी . पेंड्रा गांव का एक बाहरी मुहल्ला है अमरपुर , यहां की दलदली ज़मीन से रिसते पानी ने आगे की राह पकड़ कर अरपा नदी का नाम पा लिया होगा . आज यहां धान के खेत बन गये हैं , ज़मीन पाट दी गयी है . सरकारी दस्तावेजों ये ज़मीन निजी भूमि है , इसलिये बेची जा रही है . अरपा का उद्गम बिक रहा है – एक पानी परंपरा दफ़न हो रही है – हम बेबस हैं . सरकार कुछ करने से रही.


नवल शर्मा.

CG Basket

Next Post

जातिवाद भेदभाव के खिलाफ लड़ने वाला योद्धा.

Sun May 5 , 2019
दलित बहुजन और आदिवासी अधिकारों के लिए डिग्री प्रसाद चौहान ने बुलंद आवाज उठाई है । इसकी गूंज वंचित समुदाय […]

You May Like